75+ हिंदी दिवस प्रसिद्ध एवं सुंदर नारें | Hindi Diwas Slogan

Hindi Diwas Slogan

अलग-अलग धर्म, जाति, लिंग पंथ, भाषा, और संस्कृति से संपन्न ये भारत देश अपने परम्पराओं से उज्जवलित एवं विख्यात है. अपने सदभाव एवं संस्कृतियों से सम्पूर्ण विश्व को परिचित कराया कि सम्मान प्राप्त करने में नही बल्कि सम्मान देने में महानता है. जैसे हिंदुस्तान अपनी संस्कृति यानि मातृभाषा को हिंदी दिवस के रूप सुसज्जित करता है.

भारतीय संस्कृति में हिंदी केवल मातृभाषा ही नही है बल्कि ये वो विरासत है जो हिंदी भाषा के माध्यम रास्त्र की एकता और अखंडता को सुनिश्चित करती है. हिंदी एक ऐसी भाषा है जो संवाद को सरल, सुन्दर और सुगम बनाती है. इन्ही तथ्यों को ध्यान में रखते हुए, 14 सितंबर, 1949 को भारत की संवैधानिक सभा में  हिन्दी को भारतीय गणराज्य की अधिकारिक भाषा के रूप में घोषित किया.

भारतवासी का पूर्णतः ध्यान आकर्षित करने के लिए 14 सितम्बर को हिंदी दिवस के रूप में मनाया जाता है. इसी मुहीम हो आगे बढ़ाने के लिए कुछ महान विद्वानों Hindi Diwas Slogan आपके सामने प्रस्तुत है जो हिंदी को सर्वश्रेष्ठ भाषा के रूप में संबोधित करते है.

अवश्य पढ़े, स्वच्छ भारत नारें

हिंदी दिवस पर प्रसिद्ध नारें | Famous Hindi Diwas Slogan

1. हिंदी में बात है क्योंकि हिन्दी में जज्बात है.

2. मन की भाषा, प्रेम की भाषा, हिंदी है भारत जन की भाषा

3. हिन्दी में निहित हमारे संस्कार, सबको हिन्दी में नमस्कार
हिन्दी सरल-सहज भाषा है, सफलता की परिभाषा है.

4. हिंदी भाषा सबसे ख़ास है, क्योंकि इसमें एहसास है.

5. एकता की जान है, हिंदी देश की शान है.

6. आइए एक साथ बढ़िए हिंदी को अपनाइए.

अवश्य पढ़े, जल संरक्षण नारें

7. देश की ऊँची शान करे, हम हिंदी में काम करे.

8. 14 सितंबर की करो तैयारी, देश में हिंदी दिवस का त्योहार मनेगा अबकी बारी.

9. हिंदी सिखे बिना भारतीयो के दिलो तक नही पहुँचा जा सकता.

10. सोंधी सुगंध, मीठी सी भाषा, गर्व से कहो हिंदी है मेरी भाषा.

11. हिन्दी हमारी शान है, देश का अभिमान है.

12. मेरा अभिमान, देश की शान, गर्व से कहो हिंदी ही स्वाभिमान.

13. हिन्दी जनसंचार का स्पंदन है, हिन्दी भारत माँ का वंदन है.

14. जो स्थान बिंदी का है, वही स्थान भाषाओँ में हिंदी का हैं.

15. आओ अब आगे बढ़ें, हिंदी लिखें हिंदी पढ़ें.

16. हिंदी दिवस पर हमने ठाना है, लोगों में हिंदी का स्वाभिमान जगाना है.

17. हिंदी से हिंदुस्तान हैं, तभी तो हिंदी हमारी शान हैं.

18. है ये वतन हमारा हिंदी, हिंदुस्तान इसे हम कहते हैं राष्ट्रभाषा है अपनी हिंदी, मातृभाषा इसे हम कहते हैं।

19. हिन्दी का सम्मान करे, देश का मान करे.

20. भारत माँ के भाल पर सजी स्वर्णिम बिन्दी हूँ, मैं भारत की बेटी, आपकी अपनी हिन्दी हूँ.

अवश्य पढ़े, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ नारें

21. जब तक सूरज चाँद रहेगा, हिंदी का दिल में सम्मान रहेगा.

22. सबको करती एक समान, हिंदी भाषा बड़ी महान.

23. आओं सब मिलकर हिन्दी को अपनाये, देश में एकता और भाईचारा को बढ़ायें.

24. हिंदी है जन-जन की भाषा, देश भर में इसे सम्मान मिले यही है मेरी अभिलाषा.

25. हिन्दी को सिर्फ राजनीति का मुद्दा मत बनाओ, बल्कि हिन्दी दिवस पर इसे तुम खुद अपनाओ.

26. हिन्दुस्तानी हैं हम गर्व करो हिंदी भाषा पर, सम्मान देना और दिलाना दायित्व हैं हम पर.

27. चलो मिलकर मुहीम चलाये, आज ही से हिन्दी अपनाए.

28. बात तो हर भाषा में होती है, पर जज्बात हिंदी भाषा में ही होता है.

29. आंगन-आंगन हिन्दी, अक्षर संग मुस्काए, हर भाषा के साथ में फूलों सी खिल जाए.

30. इंग्लिश तो केवल आशा हैं, हिंदी तो राष्ट्र्भाषा हैं.

31. बिन हिंदी बर्बादी है, हिंदी ही हमारी आजादी हैं.

32. हिंदी शताब्दियो से राष्ट्रिय एकता का माध्यम रही है.

33. भारतेंदु और दिनकर के कलम से निकले हिंदी के साहित्य, भारतवासियों के जीवन में उमंग भरते है नित्य.

34. हिन्दी दिवस पर हम सबने ठाना है, लोगों में हिंदी के प्रति स्वाभिमान जगाना है.

35. हिंदी मेरा ईमान हैं, हिंदी मेरी पहचान हैं, हिंदी हूँ मैं, वतन भी मेरा प्यारा हिन्दुस्तान हैं.

अवश्य पढ़े, पर्यावरण पर नारे

36. देश की यह शान है, हिंदी से हिन्दोस्तान है.

37. ताल से ताल मिलाए जा, हिंदी को आगे बढ़ाए जा.

38. सरल है, सुबोध है, सुंदर अभिव्यक्ति है, हिन्दी ही सभ्यता, हिन्दी ही संस्कृति है.

39. हर भाषा में कुछ न कुछ सार हैं, पर हमको तो सिर्फ़ हिंदी से प्यार हैं.

40. करो हिंदी का मान, तभी बढ़ेगी देश की शान.

41. सीखो जी भर भाषा अनेक, पर राष्ट्रभाषा न भूलों एक.

42. हिंदी है भारत का अभिमान, दक्षिण हो पश्चिम सब मिलकर करो इसका सम्मान.

43. जुबां से नही, दिल से बोलो, पर हिंदी में भी कुछ बोलो.

44. एकता की जान है, हिंदी भारत की शान हैं.

45. देश – दुनिया तक हिंदी पहुँचाओ, पूरी दुनिया में पहचान बनाओ

46. बड़ों को सम्मान देना सिखाया, हिंदी भाषा ने ही मान बढ़ाया.

47. हिन्दी जिसका नारा है, वह भारत हमको प्यारा है.

48. विश्व के पटल पर हिंदी को पहुँचाओ, इसकी पहचान पूरी दुनिया में बनाओ.

49. हिंदी अपनाओ, देश का मान बढ़ाओ.

50. हिंदी भाषा में है अपनत्व इसका अपना एक महत्त्व.

इसे भी पढ़े, समय पर स्लोगन

51. देश को हिंदुस्तान के नाम से जाना जाता है, भारत की भाषा को हिंदी के रुप में पहचाना जाता है.

52. बिना मातृभाषा के हिन्दी साहित्य भी वीरान रहेगा, हिन्दी रहेगी तभी तो हिन्दुतान रहेगा.

53. हिंदी पूरे विश्व का हो गान, हिंदी को बनाये भारत की शान.

54. ऐसे क्यों हुए हो गर्म, हिंदी बोलने में न करो शर्म.

55. भांति-भांति की भाषा सबको आती, पर हिंदी ही सबको भाती.

56. हिन्दी को सम्मान दो, हिन्दी गुणों की खान है, हर भाषा में महान है, भारत की पहचान है.

57. हिंदी मेरा अभिमान हैं, हिंदी मेरे चेहरे की मुस्कान हैं.

58. हिंदी हम अपनाएंगे, राष्ट्र की शान बढ़ाएंगे.

59. आओं हिंदी में संवाद करें, अपने विचारों को व्यक्त करें.

60. आधुनिक समाज के लिए तुम अंग्रेजी जरुर अपनाओ, पर कुछ ऐसा भी इसके दिवाने ना बनो की अपने मातृभाषा हिंदी को भूल जाओ.

61. तोल-मोल की है हजार भाषा पर, अपनत्व की तो बस हिंदी भाषा.

62. बिना राष्ट्रभाषा के राष्ट्र का उत्थान असंभव है.

63. जो नहीं करते राष्ट्रभाषा का सम्मान, हमेशा होता है उनका अपमान.

64. सबसे प्यारी, सबसे न्यारी, हिंदी है हमारी राष्ट्रभाषा.

65. कोटि-कोटि कंठों की मधुर स्वरधारा है, हिन्दी है हमारी, हिन्दुस्तान हमारा है.

66. स्वतंत्रता कहाँ तक हैं, हिंदी जहाँ तक हैं.

67. ना करो हिंदी की चिंदी, हिंदी तो है देश की बिंदी.

68. जब सभी देशवासी करेंगे हिंदी का सम्मान, तभी बढ़ेगा भारत का मान.

69. हिंदी सबको साथ लाएगी, हमारी मातृभाषा ही देश को तरक्की के राह पर ले जाएगी.

70. रूप नहीं, स्वरूप की भाषा, हिंदी ही है उपन्यास की भाषा.

71. देखो समझो बात हमारी, हिंदी भाषा है सबसे प्यारी।

72. बहुत सहज अभिव्यक्ति है हिंदी, हर देशवासी की भाषा है हिंदी.

73. प्यार की है वो अभिलाषा, हिंदी है हमारी मातृभाषा.

74. हाथ में अपने भारत की शान, हिंदी अपनाकर तुम बनो महान.

75. बढ़ाना हैं देश को व्यक्तित्व विकास की ओर तो दें हिंदी भाषा पर जोर.

76. हिंदी, किसान और जवान, देश के तरक्की के लिए जरुरी है इनका सम्मान.

77. समझ-समझ के नहीं आयी, हिंदी तो जन्म के साथ आयी.

Note:-
Hindi Diwas Slogan का उदेश्य केवल भारतवासी के आशा और सम्मान की भावना को जागृत करना है कि हिंदी केवल देश में ही नही बल्कि विदेशों में भी बोली जाती है. इसलिए, अपने भाषा को अपने स्तर तक उठाएं एक सम्पूर्ण संसार हमें हमारी भाषाओँ से पहचानेगा.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *