Alphabet से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकरी | Alphabet Details in Hindi

Alphabet details in Hindi

अंग्रेजी सीखना एक कला है जो नैतिक कर्तव्यों को पूरा करने में अंग्रेजी एक महत्वपूर्ण किरदार निभाता है. सामान्यतः अंग्रेजी आधुनिक भारत का एक महत्वपूर्ण भाषा बना हुआ है जिसके बिना बेहतर करियर विकल्प की कल्पना नहीं किया जा सकता है.

बेहतर संसाधन एवं बेहतर करियर स्कोप के लिए अंग्रेजी का हुनर सीखना अत्यंत आवश्यक है, जिस प्रकार दुनिया तेजी से विकसित हो रही है ठीक उसी प्रकार आपको भी अंग्रेजी के दुनिया में अपने हुनर को और निखरना है. 

अंग्रेजी सीखने की प्रक्रिया को शुरू करने से पहले मन में तीन शर्त पूरा करने का जज्बा होना बेहद आवश्यक है.

  1. अंग्रेजी सीखने का संकल्प करना 
  2. उस संकल्प को पूरा करने के लिए प्रयत्न करना
  3. उस प्रयत्न को तब तक जारी रखना जब तक लक्ष्य तक भली-भांति पहुंच नहीं जाए

अगर तीनों शर्तें पूरा करने की हौसला मन में हो तो मेरा यह प्रतिज्ञा है कि आप निश्चित समय में अंग्रेजी अच्छे के जानकार साबित होंगे.

क्योंकि अंग्रेजी के महान जानकार कहते हैं कि कोई भी कार्य ठीक विधि से शुरू किया जाए,  तो समझना चाहिए कि आधा काम पूरा हो गया.

अतः अंग्रेजी सीखने की इस पहल को अल्फाबेट (Albhabet)  यानी वर्णमाला से शुरू करते हैं.

Alphabet क्या है (Alphabet Details in Hindi)

वर्णों (Letters) के समूह को अल्फाबेट्स (Alphabet in Hindi) यानि वर्णमाला कहते हैं जो केवल एक शब्द है जिसका अर्थ वर्णमाला होता है.

Alphabet मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं.

  • Capital Letters (बड़े अक्षर)
  • Small Letters (छोटे अक्षर)

अंग्रेजी वर्णमाला में कुल  26 वर्ण/ अक्षर होते है. 

A/aB/bC/cD/dE/eF/fG/gH/hI/iJ/jK/kL/lM/m
बीसीडीएफजीएचआईजेकेएलएम
N/nO/oP/pQ/qR/rS/sT/tU/uV/vW/wX/xY/yZ/z
एनपीक्यूआरएसटीयूभीडब्ल्लूएक्सवायजेड

अंग्रेजी वर्णमाला के 26 वर्णों को मुख्यतः तिन वर्गों में बांटा गया है.

  1. Vowel (स्वर)
  2. Semi Vowel (अर्द्ध स्वर)
  3. Consonant (व्यंजन)

1. Vowel (स्वर):-

वह अक्षर जिसका उच्चारण बिना दूसरे अक्षर की सहायता के स्वयं हो,  वह स्वर वर्ण कहलाता है.

स्वर वर्ण की संख्या पांच होती है, जैसे a, e, i, o, u.

Semi Vowel (अर्द्ध स्वर):-

2. वह वर्ण,  जो स्वर एवं व्यंजन दोनों का उच्चारण संपूर्ण कराता है,  वाह अर्ध स्वर यानी Semi Vowel कहलाता है

Semi Vowel (अर्ध स्वर वर्ण)  की संख्या दो होती हैं, जैसे w, y .

3. Consonant (व्यंजन) :-

वह अक्षर या वर्ण  जिसका उच्चारण स्वर वर्ण की सहायता से हो, वह व्यंजन कहलाता है.

व्यंजन वर्ण की संख्या 19 होती है, जैसे b, c, d, f, g, h, j, k, l, m, n, p, q, r, s, t, v, x, z.

अवश्य पढ़े, अंग्रेजी बोलना कैसे सीखे

Alphabet Tips in Hindi

अंग्रेजी में लेटर मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं.

  1. कैपिटल लेटर्स (Capital) 
  2. और स्माल लेटर्स (Small)

कैपिटल लेटर्स चाहे छपाई के हो या लिखाई के हो हमेशा ऊपर के तीन लाइनों में ही लिख जाते हैं.

 स्मॉल लेटर्स में f  चार लाइनों में b,d, h, k, l, t, ऊपर के तीन लाइनों में g, j, p, q, y नीचे के 3 लाइनों में तथा शेष अक्षरa, c, e, i, m, n, o, r, s, u, v, w , x, z बीच की दो लाइनों में लिखे जाते हैं. स्माल लेटर z,  2 तरीके से लिखा जाता है. 

हिंदी वर्णमाला | Hindi Varnmala

हिंदी वर्णमाला में संपूर्ण वर्णों की संख्या 46 होती है. 

Hindi Vowels (स्वर) 

अंअः
AAAE / IEEU / OOO/UE/AIAIOAU/OUANAH

Hindi Consonant (व्यंजन) 

ड.
KAKHAGAGHANGACHACHHAJAJHAYNATATHA
DADHANATATHADADHANAPAPHABABHA
क्षत्रज्ञ
MAYARALAWASHASHASAHAKSHATRAGYA

हिंदी अक्षर के बारह खड़ी तथा इनके अंग्रेजी में उच्चारण

काकिकीकुकूके  कैकोकौकंकः 
Kka/kaa  kikeekukookekaikokaukankah

Note:-

किसी भी हिंदी अक्षर के बारह खड़ी तथा इनके अंग्रेजी में उच्चारण ऊपर दिए गए नियम के अनुसार लिखा एवं पढ़ा जाता है.

Alphabets लिखने का नियम | Some Tips for Writing Hindi Words into English

1.  जब किसी हिंदी शब्द के शुरू या बीच में व्यंजन हो और उसके साथ स्वर नहीं हो तो “a”  का प्रयोग किया जाता है. जैसे, 

रमण             = र+म+न    = Raman

सोहन            = सो+ह+न  = Sohan

जिकेश          = जी+के+श = Jikesh

ऋषिकेश    = ऋ+षि+के+श = Rishikesh

सावित्रि       = सा+वि+त्रि     = Saweetri

Note:- 

ऊपर के  शब्द रमण में स्वर अक्षर नहीं जुड़ा है इसलिए इसके साथ a का प्रयोग किया गया है जबकि  दूसरा, तीसरा, चौथा, एवं 5वे शब्द में स्वर जुड़ा है इसलिए सर के अनुसार स्वर का प्रयोग किया गया है.

2.    जब किसी हिंदी शब्द के अंत में त्र, ट्र, द्र, ब्र, आदि जैसे अक्षर का प्रयोग हो और इससे कोई स्वर नहीं जुड़ा हो तो इनके साथ “a”  का प्रयोग किया जाता है. जैसे, 

ब्रह्मपुत्र = Brahmaputra

रास्त्र   = Rastra

राजेंद्र = Rajendra

3.  जब किसी व्यंजन में (कृ, ब्र)  इस तरह के चिन्ह का प्रयोग हो तो ऐसे अक्षर के साथ “a”  का प्रयोग नहीं होता है. जैसे

कृष्णा = Krishna

ब्राउन = Brown

4.  जब किसी हिंदी शब्द के शुरू या बीच में  व्यंजन “ आधा अक्षर” का प्रयोग किया गया हो, तो ऐसे व्यंजन के साथ कोई भी स्वर का प्रयोग नहीं होता है. जैसे,

स्कूल   = स्+कू+ल = School 

कृष्णा  = कृ+ष्+ना = Krishna

5.  दो अक्षर से बने व्यंजन के बीच में “a”  का प्रयोग नहीं होता है. जैसे,

ज्ञ = Gy, त्र = Tr, क्ष = Ksh, ध = Dh, फ = Ph, आदि

Note:- 

  1. अक्षरों से मिलकर शब्द बनता है.
  2.  शब्दों से मिलकर वाक्य बनता है.
  3.  वाक्यों से मिलकर पैराग्राफ बनता है, जैसे:- 

The Quick Brown Fox Jumps Over The Lazy Dog (तेज, भूरी लोमडी आलसी कुत्ते के उपर कूद गई)

वाक्य = 1, शब्द = 9, अक्षर = 43 

 यह एक ऐसा वाक्य है जिसने अल्फाबेट के सभी अक्षर शामिल होते हैं. 

 Conclusion

अल्फाबेट यानी वर्णमाला से संबंधित संपूर्ण जानकारी इस आर्टिकल में मुहैया कराने की कोशिश की गई है, अंग्रेजी अल्फाबेट, हिंदी अल्फाबेट्स, स्वर, व्यंजन, आदि की जानकारी विस्तार से प्रदान की गई है.

ऊपर बताए गए नियम के अनुसार शुद्ध-शुद्ध पढ़ना और लिखना स्वाभाविक है, अतः अल्फाबेट से संबंधित किसी भी तरह की संदेह हो तो कृपया कमेंट करके अपना सुझाव अवश्य दें.


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *