Hotel Management Course क्या है और कैसे करे | फ़ीस, करियर, योग्यता

Hotel Management course in Hindi
Spread the love

होटल मैनेजमेंट फील्ड दुनिया भर में भ्रमण करे रहे टूरिज्मो को समझने में सहयोग, समझाने, देखने और उनमे बेहतरीन सामंजस्य बैठाने आदि में अपना अहम् भूमिका निभाती है क्योकि होटल मैनेजमेंट एक ऐसा आर्गेनाईजेशन है जो टूरिज्मो आदि में सहयोग लेने का एक मौका पैदा करती है.

यह फील्ड टूरिज्मो, ब्यापारियो, एवं अन्य जरुरतमंदो को प्रोडक्ट और सर्विस दोनों का सुविधा बुल्कुल सही और परिस्थिति के अनुकूल उपलब्ध कराती है.

Hotel Management इंडस्ट्री दुनिया में सबसे तेजी से उभरने वाला इंडस्ट्री है जिसके परिणाम स्वरुप इस फील्ड में 12th के बाद करियर विकल्प के साथ-साथ इसके कोर्स वर्टीकल के भी डिमांड तेजी से बढ़ रहे है.

होटल मैनेजमेंट कोर्स में स्टडी के साथ-साथ स्किल्स विकाश पर विशेष ध्यान दिया जाता है जिससे ट्रेनी consumers को अपना सर्वोच्य अनुभव प्रदान कर सके. यह आवश्यक भी है की एक ट्रेनी प्रोडक्ट्स और सर्विसेज के अलवा होटल मैनेजमेंट का एक Procedure अपने सर्वोतम अनुभव से सेवाए देकर प्रदान कर के करे.

सामान्यतः कोर्स में मिलने वाले स्किल्स का मुख्य उदेश्य, होटल मैनेजमेंट इंडस्ट्री से प्रोवाइड की जाने वाली सेवाएँ से Consumers को पूरी तरह संतुष्ट करना होता है जो होटल मैनेजमेंट के कर्मचारियों द्वारा संपन्न किया जाता है.

Hotel Management इंडस्ट्री वर्तमान समय में सबसे ज्यादा करियर आप्शन देना वाला इंडस्ट्री है इसकी लोकप्रियता दिन-प्रदीन बढ़ती ही जा रही है जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि इस फील्ड में करियर ग्रोथ की क्या चांसेस हो सकते है. Hotel Management Course In Hindi को विस्तार से समझते है. होटल मैनेजमेंट कोर्स क्या है, होटल मैनेजमेंट कोर्स फीस, होटल मैनेजमेंट में करियर स्कोप आदि,

होटल मैनेजमेंट क्या है? | Hotel Management Course in Hindi

hotel management course in Hindi.
Hotel manage course

होटल मैनेजमेंट इंडस्ट्री एक ऐसा फिल्ड है जिसमे होटल के प्रोडक्ट्स, सर्विसेज या व्यवसाय को सही एवं सुचारू रूप से चलाना होता है. Hospitality Management फील्ड को सफलता पूर्वक चलने के लिए अच्छी Communication स्किल के साथ-साथ Impressive personality की भी आवश्यकता होती है. क्योकि यह फिल्ड गुड कम्युनिकेशन स्किल्स और impressive पर्सनालिटी के लिए ही जाना जाता है.

इस इंडस्ट्री के उंदर दी जाने वाली सभी सेवाएँ से consumers को पूरी तरह से संतुष्त करना होता है यह इंडस्ट्री ग्राहकों के सुविधाओ का विशेष रूप से ख्याल रखती है जैसे; टूरिस्ट की आवागमन की सुविधा, रहने और खाने की सुविधा, स्वादिष्ट एवं पौष्टिक भोजन की सुविधा, होटल व्यवस्था आदि इसमें प्रमुख है इन्ही सेवाओं को अच्छे अनुपात में सुविधा मुहैया करना होटल मैनेजमेंट या हॉस्पिटैलिटी कहलाता है.

दुसरे शब्दों में, Hotel Management/ Hospitality एक ऐसी सुविधा प्रदान करने वाली इंडस्ट्री है जिसमे Consumers की जरूरतों की सेवाओ पर विशेष रूप से ध्यान केन्द्रित किया जाता है ताकि दी जाने वाली सेवाएँ से उन्हें संतुष्ट करा सके.

होटल मैनेजमेंट कोर्स के लिए योग्यता

होटल मैनेजमेंट एक प्रोफेशनल कोर्स है जिसमे एडमिशन लेने के लिए इंस्टीट्यूट/कॉलेज के नियमो को मानना अनिवार्य होता है. हॉस्पिटैलिटी कोर्स के लिए योग्यता भिन्न-भिन्न होती है. संस्थान के शर्तो के अनुसार उम्मीदवार के पास निम्न योग्यताएं होनी चाहिए.

  • होटल मैनेजमेंट के डिप्लोमा कोर्स में एडमिशन लेने के लिए उम्मीदवार को 10th और 12th कम से कम 50% से पास होना अनिवार्य होता है.
  • बैचलर डिग्री के लिए 12वी 50% से पास होना अनिवार्य
  • हॉस्पिटैलिटी में मास्टर डिग्री हासिल करने के लिए स्नातक पास होना अनिवार्य
  • कई संस्थान ऑल इंडिया एडमिशन टेस्ट एंव इंटरव्यू के आधार पर स्टूडेंट्स का चयन प्रक्रिया पूरी करते है.
  • जहां उनकी बुद्धिक्षमता, सामान्य ज्ञान, सामान्य विज्ञान और अंग्रेजी की क्षमता की जांच विशेष प्रकार से की जाती है.
  • कम्युनिकेशन स्किल
  • इंग्लिश स्किल्स
  • क्रिएटिव माइंड आदि.

होटल मैनेजमेंट से सम्बंधित कोर्स.

Hospitality/ Hotel मैनेजमेंट इंडस्ट्री में, इससे सम्बंधित बहुत प्रकार के कोर्स है जिनकी विशेषता उनकी कोर्स, अवधि, योग्यता, फीस आदि के हिसाब से अलग-अलग होता है.

इस फील्ड में उनके वर्टीकल के अनुसार कोर्स UG लेवल और PG लेवल पर किया जा सकता है. अगर कोई स्टूडेंट्स होटल मैनेजमेंट कोर्स 12th के बाद करना चाहता है तो वह UG लेवल पर कोर्स करने के लिए योग्य होता है.

अगर ग्रेजुएशना के बाद करना हो तो PG लेवल पर कोर्स करने के लिए योग्य होते है, इसके अलावा होटल मैनेजमेंट कोर्स Diploma लेवल पर भी किया जा सकता है. डिप्लोमा लेवल पर होटल मैनेजमेंट कोर्स इस समय सबसे अधिक किया जाने वाला फील्ड है.

बैचलर ऑफ़ होटल मैनेजमेंट की विषय

Hotel Management प्रोग्राम को B.H.M के नाम से भी जाना जाता है यह 4 वर्ष का अंडर ग्रेजुएट प्रोग्राम होता है. होटल मैनेजमेंट कोर्स 8 सेमेस्टर में बता हुआ होता है, इस कोर्स के अंतर्गत कैंडिडेट्स को विभिन्न प्रकार के थ्योरेटिकल और प्रैक्टिकल सब्जेक्ट्स का अभ्यास कराया जाता है.

होटल मैनेजमेंट गाइडलाइन्स के अनुशार, इस प्रोग्राम में कैंडिडेट्स के स्किल पर ज्यादा फोकस किया जाता है ताकि उन्हें होटल मैनेजमेंट के साथ-साथ टूरिज्म सेक्टर में भी हेल्प मिल सके. कुछ इम्पोर्टेन्ट सब्जेक्ट जो होटल मैनेजमेंट फील्ड में विशेष रूप पढ़या जाता है.

  • इवेंट मैनेजमेंट
  • एकाउंटिंग
  • बिज़नस लॉ
  • कम्युनिकेशन स्किल [ इंग्लिश ]
  • बिज़नस एथिक्स
  • फ़ूड प्रोडक्शन
  • फ्रंट एंड ऑपरेशन
  • मैनेजमेंट स्किल्स
  • हाउस कीपिंग
  • ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट
  • पब्लिक रिलेशन
  • ट्रेवल एंड टूरिज्म इन हिंदी, etc.

डिप्लोमा कोर्सेज इन होटल मैनेजमेंट

होटल मैनेजमेंट में डिप्लोमा कोर्स की अवधी 1 वर्ष की होती है. डिप्लोमा कोर्स की अवधि कम होने की वजह से इस फील्ड में कोर्स सबसे अधिक किया जाता है. इसके एक और मुख्य वजह यह भी है कि डिप्लोमा कोर्स विभिन्न प्रकार के टॉपिक्स प्रोग्राम प्रदान करता है जैसे;

  • डिप्लोमा इन फ्रंट ऑफिस
  • डिप्लोमा इन मैनेजमेंट स्किल्स
  • डिप्लोमा इन HR मैनेजमेंट
  • डिप्प्रिंलोमा इन सिपल्स ऑफ़ होटल एंड टूरिज्म मैनेजमेंट
  • डिप्कलोमा इन म्युनिकेशन स्किल्स
  • डिप्लोमा इन फ़ूड प्रोडक्शन एंड Nutrition
  • डिप्लोमा इन बेकरी एंड कन्फेक्शनरी
  • डिप्लोमा इन हाउस कीपिंग
  • डिप्लोमा इन फ़ूड विवरेज सर्विसेज

होटल मैनेजमेंट में डिप्लोमा कोर्स के लिए योग्यता

डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट/ हॉस्पिटैलिटी के लिए किसी भी स्ट्रीम से 12th पूरा करने के बाद स्टूडेंट्स इस के लिए अप्लाई कर सकते है. इसके अलावा ऐसे बहुत सारे institutes है जो केवल 10th पास किए हुए स्टूडेंट्स को डिप्लोमा कोर्स करने के लिए प्रोत्साहित करते है.

10th पास स्टूडेंट्स सोचते है कि 10th के बाद क्या करे, लेकिन उनके पास भी होटल मैनेजमेंट कोर्स करने के लिए मौके होते है. वे 10वी के बाद इस फिल्ड में करियर बना सकते है.

होटल मैनेजमेंट में डिप्लोमा कोर्स से एडमिशन कैसे ले?

डिप्लोमा इन होटल मैनेजमेंट में कोर्स करने के लिए मिनिमम qualification 10th और 12th पास होता है और डिप्लोमा करने वाले कैंडिडेट्स के पास सर्टिफिकेट के साथ-साथ 10th और 12th में कम से कम 50% मार्क्स होना अनिवार्य होता है.

होटल मैनेजमेंट में डिप्लोमा कोर्स से एडमिशन लेने के लिए एंट्रेंस एग्जाम देना आवश्यक होता है. बहुत सारे institutes ऐसे है जो एडमिशन, बिना एंट्रेंस एग्जाम के ले लेते है पर दुसरे इंस्टिट्यूट एंट्रेंस एग्जाम क्लियर करने के बाद लेते है.

डिप्लोमा लेवल के कोर्सेज में एडमिशन लेने के लिए कैंडिडेट्स को निम्न एंट्रेंस एग्जाम की तैयारी करना आवश्यक होता है. जैसे AIMA UGAT, BWP, आदि.

अंडर ग्रेजुएट कोर्सेज इन होटल मैनेजमेंट

यह 3 वर्ष की अंडर ग्रेजुएट कोर्स होता है जो 6 सेमेस्टर में बता हुआ होता है. अंडर ग्रेजुएट कोर्स इन होटल मैनेजमेंट एक संतोषजनक करियर प्रदान करता है, अंडर ग्रेजुएट डिग्री से होटल मैनेजमेंट कोर्स करने वाले स्टूडेंट्स को इस फील्ड में इम्पोर्टेंस मिलता है और उनके लिए जॉब्स के भी आप्शन बहुत होते है.

अंडर ग्रेजुएट कैंडिडेट्स होटल मैनेजमेंट/ हॉस्पिटैलिटी कोर्स निम्न सब्जेक्ट्स से कर सकता है.

  • बैचलर ऑफ़ होटल मैनेजमेंट
  • बैचलर ऑफ़ फ़ूड एंड विवरेज
  • बैचलर ऑफ़ कम्युनिकेशन स्किल्स
  • बैचलर ऑफ़ होटल मैनेजमेंट एंड एडमिनिस्ट्रेशन
  • बैचलर ऑफ़ फ़ूड प्रोडक्शन
  • बैचलर इन ट्रेवल मैनेजमेंट
  • होटल मनागेंट इन एकाउंट्स
  • बैचलर इन हाउस केप्पिंग
  • बैचलर इन टूरिज्म एंड ट्रेवल मैनेजमेंट
  • बैचलर इन मार्केटिंग मैनेजमेंट
  • बैचलर इन इवेंट मैनेजमेंट

होटल मैनेजमेंट में अंडर ग्रेजुएट कोर्स के लिए योग्यता

जो कैंडिडेट्स अपना करियर होटल मैनेजमेंट के फील्ड में बनाना चाहते है उन्हें 12th पास होना बेहद जरुरी है. यह matter नही करता है कि कैंडिडेट्स किस स्ट्रीम से अपना 12th पूरा किए है. कैंडिडेट्स, जो अपना 12th पूरा कर लिए है वो इस कोर्स के Eligible है बशर्ते उनके पास 50% मार्क्स और सर्टिफिकेट होने चाहिए.

होटल मैनेजमेंट कोर्स फीस

जिस प्रकार होटल मैनेजमेंट में विभिन्न तरह के वर्टीकल है ठीक उसी प्रकार होटल मैनेजमेंट के फेस वर्टीकल के अनुशार अलग-अलग है. डिप्लोमा लेवल पर होटल मैनेजमेंट कोर्स का मिनिमम फीस 30,000 से 80,000 होता है,

वही 12th, ग्रेजुएशन लेवल, और पोस्ट ग्रेजुएशन लेवल का कोर्स फीस मिनिमम 40,000 से लेकर 1,75,000 रूपये प्रति वर्ष होता है.

होटल मैनेजमेंट में करियर के संभवनाए

ज्यादातर युवाओ की रूचि होटल मैनेजमेंट के फील्ड में है क्योकि उन्हें यह जानकारी है कि होटल मैनेजमेंट के क्षेत्र में स्किल फुल प्रोफेशनल्स की डिमांड बहुत अधिक है. इस फील्ड में देश और विदेश के अधिकतर टूरिस्ट को होटल मैनेजमेंट फील्ड के द्वारा आकर्षित किया जा सकता है. होटल मैनेजमेंट/ हॉस्पिटैलिटी इंडस्ट्री की quality बहुत पावरफुल है जिसके परिणामस्वरुप इस इंडस्ट्री में करियर का ग्रोथ बहुत हाई है.

लोकप्रिय/ फेमस जॉब प्रोफाइल्स का नाम

इस इंडस्ट्री के तहत मिलने वाली जॉब्स विशिष्ट होती है इसलिए निचे वैसे कुछ विशिष्ट जॉब प्रोफाइल्स का नाम मेंशन किया गया है जिनकी लोकप्रियता / डिमांड बहुत अधिक है. होटल मैनेजमेंट किए हुए कैंडिडेट्स इस पोस्ट पर काम कर अपने फ्यूचर को खुशनुमा बना सकते है.

  • मेनेजर ऑफ़ होटल
  • किचेन मेनेजर
  • इवेंट मेनेजर
  • डायरेक्टर ऑफ़ होटल ऑपरेशन
  • फ्लोर सुपरवाइजर
  • हाउस कीपिंग मेनेजर
  • गेस्ट सर्विस सुपरवाइजर/ मेनेजर
  • वेडिंग कोऑर्डिनेटर
  • रेस्टोरेंट मेनेजर
  • फ़ूड सर्विस मेनेजर
  • फ़ूड एंड विबरेज सुपरवाइजर
  • फ्रंट ऑफिस मेनेजर
  • बैंक्वेट मेनेजर
  • शेफ

होटल मैनेजमेंट में सैलरी की संभावनाए

हर किसी का कोर्स सिलेक्शन करने के पीछे का मुख्य फोकस उस डिग्री से मिलने वाली करियर पर होता है. उस करियर के माध्यम से एक उज्जवल भविष्य बनाना चाहते है और करियर के ग्रोथ में सैलरी एक अहम रोल अदा करता है. होटल मैनेजमेंट कोर्स किए हुए कैंडिडेट्स को सुरुआती तौर पे 2-3 लाख रूपये प्रति वर्ष मिल सकता है. जैसे-जैसे एक्सपीरियंस बढ़ता जाएगा वैसे-वैसे सैलरी लिस्ट भी बढ़ता जाएगा.

conclusion

होटल मैनेजमेंट एक लोगप्रिय इंडस्ट्री है जिसमे करियर के साथ-साथ सैलरी ग्रोथ के भी संभवनाए बहुत अधिक है. इस पोस्ट में हमने होटल मैनेजमेंट/ हॉस्पिटैलिटी से सम्बंधित पूरी जानकारी देने की कोशिस की है, जैसे होटल मैनेजमेंट क्या है, होटल मैनेजमेंट कोर्स कैसे करे आदि. इस आर्टिकल को पढ़कर आपके मन में होटल मैनेजमेंट इन हिंदी से रेगार्डिंग किसी भी तरह की संदेह हो, हो अपना राय/सुझाव कमेंट सेक्शन में सबमिट कर सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *