संस्कृत की तैयारी एवं टॉप करने की सरल प्रक्रिया | Sanskrit Exam Tips

Sanskrit ki taiyari

संस्कृत भारत के द्वितीय मात्रिभाषा है जिसका प्रचलन दिन प्रतिदिन कम होता जा रहा है.  लेकिन भारतीय शिक्षा नीति में संस्कृत की तैयारी पर महत्व अत्यधिक दिया गया है ताकि भारतीय संस्कृति से इसका प्रचलन कम ना हो. बात अगर दसवीं क्लास की करें तो इसमें प्रत्येक विद्यार्थी को 100 नंबर का एग्जाम देना होता है.

जो विद्यार्थी के दृष्टिकोण से थोड़ा मुश्किल होता है. जाहिर सी बात है, जिस भाषा का प्रयोग दैनिक दिनचर्या में ना हो, उसे समझना और बोलना कठिन अवश्य होता है लेकिन बात जब एग्जाम की हो तो समझना और पढ़ना दोनों आवश्यक होता है.

इस प्रक्रिया के सरल बनाने के लिए कुछ महत्वपूर्ण एग्जाम से संबंधित टिप्स और ट्रिक्स नीचे दिए गए हैं जिसका अध्ययन कर विद्यार्थी संस्कृत में टॉप करने के साथ-साथ एग्जाम में बेहतर मार्क्स लाने में भी सफल हो सकते हैं.

संस्कृत कक्षा 10 एग्जाम के महत्वपूर्ण मॉडल पेपर पीडीऍफ़ में यहाँ से डाउनलोड करे

विद्यार्थियों के मन में एक सवाल अक्सर आता रहता है कि दसवीं संस्कृत की परीक्षा में अधिकतम अंक कैसे प्राप्त करें. हालांकि, यह प्रश्न इतना सरल भी नहीं है. लेकिन संस्कृत में अच्छे मार्क्स करने की प्रक्रिया संभव अवश्य होती है.  

ऐसे ही कुछ महत्वपूर्ण क्रियाओं का उल्लेख यहाँ किया गया है जिसके माध्यम से प्रत्येक विद्यार्थी संस्कृत में अच्छे मार्क्स लाने में सफल होंगे

दसवीं संस्कृत की परीक्षा में टॉप कैसे करें

संस्कृत में टॉप करने का मतलब है सही दिशा-निर्देश के अनुसार अध्ययन, सही टाइम टेबल का प्रयोग, एवं व्यक्तिगत रुझानों से दूर रहना. अर्थात समय के अनुसार अध्ययन करके यह प्राप्त किया जा सकता है.  संस्कृत कोई मुश्किल विषय नहीं है. 

यह सिर्फ सही प्रक्रिया का अनुसरण करने का महत्व समझाताहै जिसके उपरांत इस विषय में एक Average विद्यार्थी भी 70 % से अधिक मार्क्स लाने में सफल होता है.

संस्कृत में टॉप करने का उचित मार्ग  इसके विषयों के साथ  गहनता से अध्ययन करना है.  सिलेबस को अंत तक पढ़े, बराबर प्रैक्टिस करें.  परीक्षा में आए हुए प्रश्नों का विश्लेषण करें. यानि यह सिर्फ एक दिशा-निर्देश है जिसे स्वीकार करना आपका कर्तव्य है. इसके पश्चात आप अपने सपनें को सफल बना सकते है. बहरहाल, नीचे कुछ प्रमुख युक्ति दिए जा रहे हैं जिसका अनुसरण कर आप संस्कृत की परीक्षा में टॉप कर सकते हैं.

संस्कृत में टॉप करने की टिप्स

  • परीक्षा में आए पिछले 5 वर्षों के प्रश्नों को इकट्ठा करें
  • उन प्रश्नों के साथ लगभग 1 महीने तक अभ्यास करें
  • साथ ही प्रश्नों को समझने का प्रयास करें
  • प्रश्नों के संबंध में शिक्षक से परामर्श करें
  • प्रत्येक प्रश्न का लगभग 2 उत्तर लिखने का प्रयास करें
  • कुछ श्लोको को याद करें
  • श्लोक का अर्थ लिखें
  • संस्कृत में खुद से आवेदन पत्र तैयार करने की अभ्यास करें
  • निबंध लेखन पर अपनी पकड़ मजबूत करें
  • ऑब्जेक्टिव प्रश्नों की तैयारी अलग से करें
  • इस प्रक्रिया में आवश्यक लगने वाली पंक्ति को चिन्हित करें
  • शीर्षक यानी लेखक का नाम याद रखें
  • प्रश्न के दिशा निर्देश के अनुसार ने अपना उत्तर तैयार करें
  • गंधाश भाग की तैयारी अच्छे से करें

यह कुछ चिन्हित प्रक्रियाएं हैं जो भविष्य में आपको संस्कृत का एक महान जनकार बना कर सकता है. केवल इतना ही नहीं यह टॉप कराने में भी एक अहम योगदान निभाता है. इसलिए अपने कर्तव्यों का निर्वाह करें एवं एक सही दिशा निर्देश के साथ अध्ययन करें

संस्कृत की पढ़ाई कैसे करें

संस्कृत एक ऐसा विषय है जिसका अध्ययन साइंस और गणित की तरह वर्ष के अंत तक नहीं की जाती है. यह केवल 3 माह का सिलेबस होता है, थोड़ी सी शिक्षक की सहायता लेकर संस्कृत की पढ़ाई पूरी की जा सकती है. इसमें ज्यादातर ध्यान विद्यार्थियों को देना चाहिए, क्योंकि यह एक गंभीर एवं सबसे अधिक अंक प्रदान करने वाला विषय है.

इसलिए इसकी पढ़ाई में थोड़ी सी सावधानी रखने की आवश्यकता होती है.

संस्कृत के महत्वपूर्ण पहलुओं को समझते हैं

संस्कृत को मुख्यतः चार प्रमुख भागों में विभाजित किया गया है ताकि इसका अध्ययन सरल कराया जा सके. 

  • क – अपठितांश – अवबोधनं 
  • ख – रचनात्मककार्यं 
  • ग – अनुप्रयुक्त व्याकरणं 
  • घ – पठित -अवबोधनं

सिर्फ इन चार खंडो से ही 100 अंक का प्रश्न आपके एग्जाम में पूछे जाते है. केवल ये दिखने में ही चार है परन्तु इसका अध्ययन थोड़ा मुश्किल है. ध्यान रहे, मैंने सिर्फ थोड़ा मुश्किल कहाँ है असम्भन नही. सूचीबद्ध आप इसकी पढ़ाई शिक्षक की सहायता से, मित्र की मदद से या फिर अभिभावक के परामर्श से भी कर सकते है. 

संस्कृत की पढ़ाई करने का टिप्स 

  • गद्यांश को केवल पढ़कर समझे का प्रयास करे, लिखने की प्रक्रिया आप बाद में करेंगे. 
  • महत्वपूर्ण टॉपिक या प्रश्न को अलग नोट बुक में अंकित करे ताकि बाद में आप उसपर विस्तार से शिक्षक से परामर्श प्राप्त कर सके.
  • खण्ड (क) के सभी लेखक का नाम स्मरण रखे.
  • वाक्य अनुवाद करते समय असान शब्दों का प्रयोग करे.
  • मञ्जूषा के शब्दों का समझने का प्रयास करे.
  • संधि एवं समाज शिक्षक के ही मदद से पढ़े ताकि गलत होने की संभावना कम रहे.
  • प्रकृतिप्रत्यय, वाच्य परिवर्तन, कलबोधक, अव्यय पद, शुद्ध अशुद्ध जैसे वाक्यों पर मकड़ मजबूत करे.
  • गद्यांश ,पद्यांश और नाट्यांश में जैसा निर्देश समय सरणी के अनुसार पढ़े, ताकि लम्बे समय तक स्मरण रहे.
  • पर्यायवाची ,विलोम ,समानार्थक ,विशेषण शब्दों को याद करे.

संस्कृत की तैयारी कैसे करे

यह विद्यार्थियों का सबसे अहम् प्रश्न होता है क्योंकि इसका उत्तर दो दिशाओं में होता है. पहला व्यक्तिगत ज्ञान के लिए और दूसरा परीक्षा के दृष्टिकोण से. यहाँ सिर्फ संस्कृत के सिलेबस को ध्यान में रखकर इसका उत्तर प्रदान किया जा रहा है. ताकि ये दोनों प्रशों का वर्णन कर सके. 

संस्कृत क्लास 10 के सम्पूर्ण भाग पीडीऍफ़ में यहाँ से डाउनलोड करे

जैसे ऊपर बताया गया है कि संस्कृत के मुख्यतः चार भाग होते है जिसकी तैयारी करने की उदेशिका अलग-अलग होती है.  व्यक्तिगत जानकारी के लिए विद्यार्थी को संस्कृत के ग्रामर पर विशेष देने की आवश्यकता होती है और परीक्षा में अधिक अंक प्राप्त करने के लिए संस्कृत के सम्पूर्ण भाग पर गंभीरता से विश्लेषण करने की आवश्यकता होती है. 

संस्कृत की तैयारी करने की महत्वपूर्ण तरीके 

  • संस्कृत की तैयारी करने के लिए सुबह का एक निश्चित समय निर्धारित करे, क्योंकि याद करने की सबसे महत्वपूर्ण समय प्रातः काल होता है
  • एकांत स्थान का चुनाव करे, जहाँ शोरगुल कम हो
  • शिक्षक से महत्वपूर्ण विषय पर चर्चा करे 
  • आवश्यक टॉपिक या प्रश्न को सबसे पहले पढ़ने का प्रयत्न करे 
  • कम से कम एक घंटा समय पढ़ने के लिए निर्धारित करे
  • याद किए हुए टॉपिक को पुनः पढ़े
  • Online Sources का मदद ले
  • संस्कृत लिखने का अत्यधिक प्रयास करे ताकि गलती कम हो 
  • Group Discussion दोस्तों के साथ प्रत्येक दिन करे

निष्कर्ष 

संस्कृत के संदर्भ में दिए सभी जानकरी शिक्षक के परामर्श से प्रदान किया गया है ताकि इस भाषा में विद्यार्थियों की रूचि विकसित करने में यह पोस्ट सहायक सिद्ध हो. सभी ट्रिक्स जो ऊपर अंकित है सिद्ध किए हुए है, क्योंकि एक अनुभवी शिक्षक के अनुसार ये हमेशा कारगर होते है. उम्मीद करता हूँ संस्कृत में टॉप कैसे करे पोस्ट आपको अवश्य पसंद आएँगे. 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *