Exam की तैयारी कैसे करे? | बोर्ड एग्जाम की तैयारी करने के लिए टिप्स.

Exam ki taiyari kaise kare

एग्जाम की तैयारी कैसे करे: इस तरह के question से हर स्टूडेंट्स परेशान रहते है, चाहे वह ज्यादा पढ़ने वाले हो या फिर कम, रिजल्ट तो सबको चाहिए. पर समस्या यह है की ऐसी कैन-सी प्लानिंग करे ताकि बोर्ड की एग्जाम में अच्छे मार्क लाए. 

मैंने अक्सर देखा की स्टूडेंट्स फाइनल एग्जाम का नाम सुनकर डर जाते है, वो इसलिए की एग्जाम की टाइम नज़दीक आ रहा होता है और उनकी पढ़ाई और सिलेबस या उनका revision अभी पूरा नही हुआ होता है, जिससे वो परेशान होने लगते है और उनके पढ़ने की टाइम और मनोबल दोनों कम होने लगता है.

परिणामस्वरूप, वो जल्दी-जल्दी परीक्षा की तैयारी करने के लिए नोट्स, गेस पेपर आदि के पीछे भागने लगते है. Notes और Guess पेपर में उन्हें ऐसे-ऐसे Questions मिलते है जिसका उन्हें आभास नही होता है और डरने लगते है की यार मैंने ऐसे questions की तैयारी ही नही की है एग्जाम में कैसे लिखेंगे, उनके ऐसे विचार से उनका टाइम और confidence दोनों कम हो जाता है   

आज की इस पोस्ट “एग्जाम की तैयारी कैसे करे” में आपको ऐसे कुछ टिप्स और गाइडलाइन्स बताए जाएँगे जिसे फॉलो करके आप बोर्ड एग्जाम की तैयारी, अच्छे से कर सकते है और बढ़िया मार्क्स भी ला सकते है. पढ़ाई करने की टिप्स यहाँ से पढ़े ताकि बोर्ड एग्जाम में और सुधार हो सके.

“ये रास्ते ले जाएँगे तुझे मंज़िल तक “तू हिम्मत न छोड़” कभी तू ने यह सुना है की अंधेरे ने कभी उजाले ना होने दी, इसलिए “तू हौसला तो रख”

परीक्षा की तैयारी के लिए कुछ महत्वपूर्ण टिप्स | एग्जाम में अच्छे मार्क्स लाने तरीके

Exam ki taiyari kaise kare | Board Exam ki taiyari kaise

“यूँ-ही नही मिलती राही को “मंज़िल” एक जुनून सा दिल में जगाना होता है, पूछा चिड़िया से कैसे बनाया आशियाना अपना, बोली: भरनी पड़ती है उड़ान बार-बार, तिनके-तिनके उठाना होता है”

बोर्ड एग्जाम की बेहतरीन तैयारी के लिए नियमित रूप से पढ़ाई करे

नियमित अध्ययन, एग्जाम की तैयारी करने लिए बहुत ही आवश्यक है, नियमित पढ़ाई का मतलब यह बिलकुल नही है की पढ़ाई केवल घर से ही करे, या फिर कॉलेज, स्कूल में ही, बल्कि नियमित अध्ययन का मतलब यह है की कॉलेज/स्कूल, ट्यूशन और घर पर पढ़ाई नियमित रूप से होना चाहिए, जिससे आप अपने टास्क और अधूरा सवाल आदि को पूरा कर सके.

नियमित पढ़ाई करने से, स्टूडेंट्स current टॉपिक के साथ-साथ प्रीवियस टॉपिक से भी UP to date रहते है, जिससे वो किसी टॉपिक को आसानी से नही भूलते है और पढ़े हुए टॉपिक लम्बे समय तक याद रहता है. शिक्षा का मुकाम एक ऐसी सीढ़ी है जिसे एक बार में कभी पूरा नही कर सकते है इसलिये हमें धीरे-धीरे और समय के साथ चलना होता है ताकि रास्ते के साथ-साथ समय का भी अच्छी पहचान हो सके.

जाहिर सी बात है एक वर्ष की सिलेबस दो महीने में नही पूरा किया जा सकता है और अगर पूरा हो भी जाता है तो वो आधी-अधूरी होगी. कहा भी जाता है आधा ज्ञान किसी काम का नही होती, न आपके लिए और न ही आपके एग्जाम के लिए. इसलिए नियमित रूप से पढ़ाई करने की प्रयास करे.

एग्जाम के प्रिपरेशन लिए Time Table बनाएँ

बिना टाइम टेबल के पढ़ाई करना थोड़ा अजीब सा लगता है न?, पर यहाँ टाइम टेबल का नियमित अध्ययन से कोई समानता नही है, टाइम-टेबल के साथ नियमित पढ़ाई करना, सफलता की पहली सीढ़ी मानी जाती है, अगर स्टूडेंट्स इस सीढ़ी से चढ़ना शुरु कर दिए तो उनकी सफलता (एग्जाम में अच्छे मार्क्स) उनसे बस दो ही कदम दूर हो सकते है जो अगले प्रयास में आसानी से पूरा कर सकते है.

Time-Table कैसे बनाए: निर्भर करता है की आप किस Standard में पढ़ते है, अगर आप 10th Class (10th standard) में पढ़ते है तो, पर सब्जेक्ट के हिसाब से 35-45 मिनट के बिच टाइम रख सकते है और हर दो सुब्जेस्ट्स यानि 1:30 घंटे के बाद 15-20 मिनट्स का break अवश्य रखे क्योंकि स्टडी के दौरान 15 मिनट का ब्रेक स्वास्थ के लिए और तनाव से फ्री होने के लिए अतिआवश्यक होता है.

एग्जाम के 3 महीने पहले से पर सब्जेक्ट के टाइम 15 मिनट्स का इज़ाफा कर दे और सब्जेक्ट का सिरीज़ हमेशा इंटरेस्ट base पर ही रखे जैसे सबसे कम पसंदिता सब्जेक्ट पहले रखे, उसके बाद उससे कम इंटरेस्ट वाला सब्जेक्ट, फिर उससे कम, अंत में सबसे पसंदिता सब्जेक्ट, ताकि आप बोर फील ना करे.

11th और 12th के लिए सब्जेक्ट सिरीज़ इंटरेस्ट base पर ही रखे और स्टडी टाइम 45-1:00 मिनट्स, फाइनल एग्जाम डेट से 4 Months पहले सब्जेक्ट टाइम 1:15-1:30 घंटे रखे ताकि आप नियमित रूप से एग्जाम के लिए अच्छे तैयारी कर सके, क्योंकि competitive एग्जाम की शुरुआत यही से होता है. अगर आपने 11th, 12th की तैयारी अच्छे से कर लेते है तो competitive एग्जाम आपके आसान हो सकते है.

बोर्ड एग्जाम के तैयारी के दौरान खान-पान हमेशा ध्यान रखे

“चिंता उतना ही करो की काम हो जाए, इतना नही की स्वास्थ ही ख़राब हो जाए”

कहा भी जाता है कि स्वस्थ शरीर बुद्धिमान एवं स्वस्थ मस्तिष्क का घर होता है, क्योंकि आप जितना स्वस्थ होंगे उतना ही बुद्धिमान भी, इसीलिए सबसे पहले खान-पान को अच्छा करे ताकि स्टडी करे समय आप तनाव एवं रोगों से दूर रह सके. जितना हो सके तरल पदार्थ का सेवन करे, जिससे आपकी एनर्जी मेंटेन होता रहे और आप खुद को अच्छा फील करा सके.

प्रोटीन युक्त भोजन करने से किसी भी तरह के तनाव से मुक्त रहते है, पढ़ा हुआ टॉपिक जल्दी से नही भूलते और पढ़ी हुई टॉपिक भी जल्दी समझ में आती है. एग्जाम के दौरान जंक फ़ूड, फ़ास्ट फ़ूड, ऑयली फ़ूड, आदि का सेवन करने से बचे अन्यथा ये आपकी बॉडी पर बुरा प्रभाव डाल सकती है जो बाद में चलकर आपके लिए मुसीबत बन सकती है इसलिए सावधान रहिए और एनर्जी युक्त भोजन कीजिए जैसे, nutritious foods, मछली, दूध, फल आदि.

महत्वपूर्ण टॉपिक के बारे दोस्तों से परामर्श करे (Group Discussion with Classmate)

इम्पोर्टेन्ट टॉपिक्स या question दोस्तों के बिच हमेशा डिस्कस करे, ऐसा करने से आपको उस टॉपिक के बारे अच्छी जानकारी प्राप्त होगी, बार-बार डिस्कस होने से वह टॉपिक या प्रश्न आपके दिमाग से चलता रहेगा जो जल्दी याद होगा और लम्बे समय तक याद भी रहेगा.

अगर आप किसी टॉपिक को बार-बार पढ़कर भी नही समझ पा रहे है तो उस टॉपिक को अपने क्लासरूम में दोस्तों के साथ रखे और उन्हें चैलेंज करे, जैसे मेरे ख्याल तुम इस क्वेश्चन को solve नही कर सकते आदि, जानने वाले सामने आकर solve करेंगे और बताएँगे जिससे आप आसानी से समझ पाएंगे.

एग्जाम में पूछे गए पुराने question के साथ प्रैक्टिस करे

महात्मा गाँधी जी ने कहा था “थोड़ा-सा अभ्यास बहुत सारे उपदेशो से बेहतर है.”.इसलिए अगर आप सफल होना चाहते है, तो  जितना हो सके उतना अभ्यास करे ताकि आपके अंदर की हिचक दूर हो सके. प्रैक्टिस केवल डर को ही दूर नही करता बल्कि ये आपके अन्दर एक कभी न जाने वाली हिम्मत पैदा करता है जिससे आप गर्व से बोल सकते है कि मैं इस काम को अब आसानी से कर सकता हूँ.

“एक इच्छा से कुछ नही बदलता, एक निर्णय से थोड़ा कुछ बदलता है, लेकिन एक प्रयास सब कुछ बदल देता है”

पिछले पांच वर्ष पुराने क्वेश्चन पेपर जो बोर्ड एग्जाम में पूछे गए हो, उसे नियमित रूप से solve करने की कोशिश करे, एक रूटीन सा बना ले और हल करते रहे, इससे आपके अन्दर विश्वास आएगा और बोर्ड एग्जाम में आने वाले क्वेश्चन के बारे में आइडिया भी, जो आपके लिए लाभकारी साबित होगा. फ़ालतू के गेस पेपर और नोट्स एवं इंटरनेट पर उपलब्ध गेस पेपर के झांसे में आने से बचे, ऐसे नोट्स आपका समय नष्ट कर सकते है. आपका सबसे बड़ा ताकत आपका प्रैक्टिस बनेगा, इसलिए एग्जाम day तक प्रैक्टिस करते रहे.

पढ़ाई के दौरान ध्यान भटकाने वाली वस्तुएँ साथ न रखे

कहा जाता है जिस काम में मन/ध्यान नही लगता, वो काम अच्छे तरीके से नही होता है, खासकर जब पढ़ाई की बात हो तो इसमें ध्यान का ही सबसे बड़ा role होता है, अपने आस-पास कोई भी ऐसी चीज़, जो स्टडी के दौरान, ध्यान भटकाता हो उसे साथ न रखे, जैसे मोबाइल, TB, वीडियो गेम, शोरगुल, बच्चे आदि.

पढ़ने के लिए एकान्त स्थान का चुनाव करे ताकि ध्यान/मन स्थिर रह सके. जबतक स्टडी में मन नही लगेगा तब तक एग्जाम की तैयारी बेहतरीन नही होगी, अगर लगता हो, पढ़ते समय मन Concentrate नही हो पा रहा है तो, योगा की सहारा लिया जा सकता है जो मन को Concentrate कराने में अहम भूमिका निभाता है.

बहुत सारे स्टूडेंट्स पूछते है की स्टडी करने में मन नही लगता क्या करे और कैसे करे की मन concentrate रहे, ऊपर बताए गए कंडीशन को फॉलो करने इससे निजात पाया जा सकता है. कही न कही नींद भी इसका करना हो सकता है, क्योंकि नींद पूरा न होने से शरीर तनाव में रहता है जिससे तैयारी ठीक तरह से नही हो पता, इसलिए नींद पर्याप्त मात्रा में अवश्य ले.

एग्जाम के दिनों के लिए प्लानिंग करे

सुनिश्चित कर ले कि एग्जाम के लिए तैयारी अच्छे तरह से कर लिए है, कोई भी काम कल (Next Day) पर न छोड़े, नही तो बाद में कही ऐसा न हो कि लगे की आपने तैयारी ही नही किए थे जिससे आपका result बदल गया, इसलिए एग्जाम day की सारी तैयारियाँ पहले ही कर ले.

बोर्ड एग्जाम के रूल्स और रेगुलेशन के बारे में पहले से सुनिश्चित कर ले, एग्जाम सेंटर कहाँ है, जाने का रास्ता, स्कूल,कॉलेज कैसा है आदि. यहाँ तक अगर संभव हो तो खुद जाकर रूट सुनिश्चित कर ले ताकि बाद में किसी भी तरह की परेशानी की सामना न करना पड़े. एग्जाम के समय वहां की माहौल कैसा रहता है यह भी सुनिश्चित कर ले, दोस्तों से इस बारे सलाह माशौरा अवश्य करे ताकि अच्छी जानकारी हो सके.

बेहतर पढ़ाई के लिए अपने आप को Motivate अवश्य करे

खुद को प्रोत्साहित (Motivate) करना बहुत आवश्यक होता है, जैसे कोई भी ऐसा काम करे, जिसे करना थोड़ा मुश्किल हो, अगर उस काम को आप कर लेते है, तो खुद को प्रुस्कृत करे, जैसे मूवी देख ले, थोड़े समय के लिए खेलने चले जाए या फिर दोस्तों से बात कर ले, ऐसा करने से आपके मन विश्वास पैदा होगा और आप अच्छे से तैयारी कर पाएँगे. 

जरूरी नही की हमेशा दुसरो से ही प्रेरित हुआ जाए कुछ ऐसे भी काम होते जिसका श्रेय खुद को भी दिया जाता है और एग्जाम की तैयारी उसी में से एक है. आप हमेशा खुद पर यकीन रखे की बोर्ड की एग्जाम आने वाले प्रश्न की तैयारी अपने अच्छे कर लिए है और उसे हल भी कर सकते है, ऐसा सोचने से मन में आत्मविश्वास बनता है जो एग्जाम टाइम में आपको उर्जावान रखता है. 

Conclusion

एग्जाम की तैयारी करना अपने-आप में एक महान काम है, अगर आप उपर बताए गए terms को फॉलो करते है, तो मेरा यह मानना है की आप एग्जाम में अच्छे मार्क्स लाएँगें.वैसे कोई भी काम आसान नही होता पर अगर मुश्किलों से लड़ने की रास्ते आप खोज लेते है तो हर मुश्किल काम आसान हो जाता है. एग्जाम में अच्छे मार्क्स लाने के लिए ऊपर वाले पॉइंट पर्याप्त है जिसकी सहायता से आप एक अच्छे परीक्षार्थी बन सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *