10th एग्जाम की तैयारी कैसे करे | Tips for 10th Board Exam in Hindi

10th ki taiyari kaise kare

10वी बोर्ड एग्जाम की टाइम दिन-प्रदीन नजदीक आता जा रहा और स्टूडेंट्स की परेशानी भी बढ़ती जा रही है कि 10वी की एग्जाम की तैयारी कैसे करे की अच्छे मार्क्स से एग्जाम पास करे. दरअसल यह हर विद्यार्थी की चाहत होती है की वह एग्जाम में अच्छे मार्क्स से पास करे. पर समस्या यह होती है आखिर तैयारी कैसे करे.

समस्या यह भी है कि केवल पढ़ाई करने से भी कभी-कभी अच्छे मार्क्स नही आते, इसका कारन क्या है आखिर 10th में टॉप कैसे करे. आपने अक्शर देखा और सुना होगा की कम पढ़ने वाला विद्यार्थी भी एवरेज विद्यार्थी के बराबर मार्क्स लाते है ऐसा क्यों. जाहिर सी बात है शुरू में तेज दौड़ने वाला धावक अंत में थक कर पीछे हो जाता है.

मेरा मंशा यह नही की शुरू में तेज स्टूडेंट अंत में कम मार्क्स लायेगा, बल्कि तेज का मतलब यह है कि उसका लेवल समय के साथ बदलता रहे, मतलब समय के अनुसार पढ़ाई करे, शुरू में सिलेबस के अनुशार, मध्य में टॉपिक्स के अनुसार और एग्जाम के टाइम, Question के अनुसार, अगर आप ऐसा करते है तो मेरा मानना है कि 10वी के बोर्ड एग्जाम में आपका मार्क्स 75%-90% के आस-पास रहेगा.

अगर आप समय के अंतराल को समझ जाते है तो 10वी की बोर्ड एग्जाम की तैयारी करना कोई कठिन कार्य नही है,  How to prepare for the 10th Board Exam in Hindi के माध्यम से 10th class एग्जाम की तैयारी करने की कुछ बेहरतीन टिप्स देने जा रहे है जो एग्जाम के समय आपको मोटीवेट भी करेगा और स्मार्ट स्टडी करने का मार्ग भी प्रदर्शित करेगा.

10वी की बोर्ड एग्जाम में पढ़ाई करने की कुछ महत्पूर्ण टिप्स  (अंतिम 3-1 महीने में)

How to prepare for the 10th exam in Hindi,
How to prepare for the 10th Exam in Hindi

Note:- स्टूडेंट्स दो प्रकार के होते है, एक तेज और दूसरा तेज के साथ-साथ समझदार भी, मकसद: जानकारी (Study Tips) कही से भी मिले उसे समझदारी से अपनानी चाहिए, अगर कोई ज्ञान दे रहा है और वह आपके एग्जाम के हिसाब से सही तो अवश्य ले, अगर नही है, तो तुरंत वहां से चले जाए. क्योकि एग्जाम के समय में यहाँ-वहां की बातो से बचने की कोशिश करे, अन्यथा यह आपके मन को विभाजित करेगा जिससे नुकसान होना लाजमी है.

साथ ही पढ़े, मेट्रिक एग्जाम के बाद क्या करे, किस स्ट्रीम के साथ आगे पढ़ाई जरी रखे.

10th क्लास के सिलेबस के हिसाब से करें तैयारी

एग्जाम के दृष्टि से सिलेबस बहुत महत्वपूर्ण होते है, आपको शुरूआती दिनों में सिलेबस के अनुशार पढ़ाई कराया गया होगा, जिसका लाभ अंत समय (एग्जाम के दौरान) में होता है.

10वी सिलेबस का एग्जाम में क्या महात्व है, इस सवाल का जवाब जानना आवश्यक है, आपको अब सिलेबस के अनुशार पढ़ाई नही करनी है बस यहाँ आपको सिलेबस की सब्जेक्ट्स अलग करके नोट्स बनाने है ताकि आप यह समझ सके की पढ़ाई कहाँ तक सफल हो चुकी है.

जैसे 10वी के सिलेबस में सब्जेक्ट इस प्रकार होते है, गणित, संस्कृत, इंग्लिश, साइंस, सोशल साइंस, हिंदी, तथा अन्य सब्जेक्ट्स.

अपने पढ़ाई के अनुशार विषय को विभाजित कर ले ताकि बाद में यह समझने में परेशानी न हो की कौन से विषय की पढ़ाई पूरी नही हुई है. ऐसा करने से आपको प्रश्न सिलेक्शन करने में आसानी होगी.

10वी बोर्ड एग्जाम की बेहतर तैयारी के लिए Strength & Weakness का ध्यान रखे

अब 10वी के एग्जाम की तैयारी की प्रक्रिया यहाँ से शुरू करते है, Strength & Weakness, क्षमता अजमाने की प्रकिया नही है.

यह आपकी पढ़ाई की क्षमता अजमाने की प्रक्रिया है. कहा जाता है जो अपनी कमजोरी को जानने में सक्षम है असल में सफल वही होता है.

इसलिए अब आपको अपनी Strength & Weakness की पता लगाने के बारी है, पाचों सब्जेक्ट्स में से अपने पढ़ाई के आधार पर उसे विभाजित करे. किस सब्जेक्ट्स में आपका पकड़ अच्छा है और किसमें कम.

पढ़ाई में अच्छी पकड़ वाली सब्जेक्ट्स की अलग लिस्ट बनाए और कम वाली की अलग, ऐसा करने से आपको यह जानकारी होगी कि किसमें समय ज्यादा देनी है और किसमे में कम.

अगर आप ऐसा करते है तो, आपका लेवल थर्ड ग्रेड से उठकर एवरेज ग्रेड पर आ जाएगा. जैसे-जैसे आप सब्जेक्ट्स को पूरा करते जाएँगे वैसे-वैसे पढ़ाई में इंटरेस्ट भी बढ़ता जाएगा, जो एग्जाम के दौरान आपको तनाव से वंचित रखेगा.

पढ़ाई करने के लिए समय सारणी (Time-Table) बनाए

ध्यान रहे: यह टिप्स एग्जाम के दौरान बहुत ही कारगर साबित हुआ है इसिलए इसका उपयोग करे.

जैसा की आपने ऊपर अपने पढ़ाई के अनुशार Strength & Weakness वाले सब्जेक्ट अलग-अलग कर लिए है अब बारी है उसको समय के अन्तराल में विभाजित कर पढ़ाई करने की.

Weakness वाले सब्जेक्ट्स को समय सरणी के पहले रखे, जैसे कमजोर सब्जेक्ट्स इंग्लिश, साइंस और गणित. प्रत्येक सब्जेक्ट्स का टाइम अवधि कम से कम 45 मिनट का जरुर रखे और 2 से 2:30 घंटे के बाद 30 से 40 मिनट्स का ब्रेक अवश्य रखे ताकि पढ़ाई से ध्यान न भटके.

एक से डेढ़ मिहिने बाद आपकी सभी सब्जेक्ट्स एक सामान हो जायेगा, जरुरी नही की पढ़ाई केवल खुद से ही करनी है.

आप अपने पेरेंट्स या टीचर का हेल्प अवश्य ले ताकि पढ़ने में सटीकता बनी रहे. कमजोर विषय के प्रति टीचर से हमेशा राय माशौरा करते रहे  है, इसे कैसे पढ़े की यह सब्जेक्ट पूरा हो जाए आदि.

अपने लक्ष्य के प्रति हमेशा एकाग्रता बनाए रखे, तभी सफलता निश्चित है उसे कोई ताल नही सकता है.

सब्जेक्ट की तैयारी करने के लिए टिप्स

सब्जेक्ट्स पर पकड़ मजबूत कैसे करे के लिए कुछ बेहतरीन टिप्स बता रहे है जिसे अपना कर आप अपनी सब्जेक्ट्स पर अच्छी पकड़ बना सकते है

Mathematics:

गणित के प्रश्न हल करने के लिए आपके बेसिक कांसेप्ट क्लियर होने चाहिए जैसे फार्मूला, टेबल, square, square root, यह गणित के प्रश्न को हल करने में बहुत हेल्प करेंगे और आप जल्दी से हल भी कर पाएँगे.

गणित के कैलकुलेशन कभी-कभी अधिक समय लेते है इसिलए आपको प्रैक्टिस करते रहना चाहिए ताकि आपकी स्पीड और शुद्धता बही रहे.

गणित के कुछ टॉपिक पर विशेष ध्यान देनी चाहिए जैसे Trigonometry, triangle, circle, mensuration, Co-operative Geometry आदि. अगर आप इसे हल कर लेते है तो आप गणित में 80%-90% मार्क्स आसानी से ला सकते है

Science >>> Physics

  • फिजिक्स की फंडामेंटल कांसेप्ट क्लियर रखे जैसे लेंस, theorems आदि 
  • फार्मूला और थ्योरम की प्रैक्टिस करते रहे ताकि लबे समय तक याद रहे.
  • Calculation वाले प्रश्न की प्रैक्टिस करे क्योकि 5 नंबर में ऐसे प्रश्न पूछे जाते है.

Social Science

Social Science एक ऐसा सब्जेक्ट है जिसमे कुछ समय के मेहनत से प्रयाप्त मार्क्स लाया जा सकता है.

जितना हो सके उतना घटना की तिथि को याद करे, इससे उत्तर बनाने में असानीहोती है.

कुछ महत्वपूर्ण क्रांति के बारे में पढ़ कर याद जरुर कर ले.

स्थान से सम्बंधित घटनाओं के बारे अवश्य बढ़े

Hindi

  • हिंदी के ग्रामर पर विशेष ध्यान दे, जैसे संधि समास, विलोम शव्द, लिंग आदि,
  • हिंदी एक हाई स्कोरिंग सब्जेक्ट है इसलिए इसे अनदेखा न करे, समय के अनुशार तैयारी करे. 
  • किताब की कहानियाँ एवं कबिताएँ अवश्य याद करे.

Sanskrit

  1. संस्कृत आसान और कठिन दोनों है, पर मेट्रिक की एग्जाम में मार्क्स सबसे ज्यादा इसी सब्जेक्ट से आते है
  2. संस्कृत में अनुवाद करना और शव्द संग्रह करना आवश्यक है, संस्कृत ग्रामर पर विशेष ध्यान दे.
  3. श्लोक अवश्य याद करे, नंबर श्लोक से अधिक मात्रा में आते है.

10th/Metric एग्जाम के लिए Revision कैसे करे?

Revision/ practice एक ऐसा पहलू है जिसे करने से हारते हुए भी जीता जा सकता है, आपको बता दे की शिक्षा का दूसरा नाम ही revision/practice है, जो विद्यार्थी प्रयास नही करता, वह कभी सफल नही हो सकता है.

इसलिए प्रश्न को हल करने का प्रयास हमेशा करे, ऐसा करने से, प्रश्न भी याद होंगे साथ-ही साथ अनुभव भी होगा. जितना ज्यादा revision होगा उतना ही ज्यादा सफल होने की संभावना बढ़ेगी.

कैसे प्रश्न का revision/ प्रैक्टिस करे?

  • चुनिन्दा प्रश्नों के साथ प्रैक्टिस करे.
  • टॉपिक के अनुशार महत्वपूर्ण प्रश्नों को चिन्हित करे और उन्हें solve करने की प्रयास करे.
  • नियमित रूप से प्रैक्टिस करे, दिन के 2 घंटे और शाम में कम से कम 3 घंटे.

प्रश्नों को लिखकर प्रैक्टिस करे

कही-कही हैण्ड राइटिंग भी अच्छे मार्क्स लाने की एक मुख्य वजह होती है इसलिए 10वी के एग्जाम के दौरान लिखने का प्रयास अवश्य करे. इससे आपकी लेखन की स्पीड ही नही बढ़ेगी बल्कि लिखने में शुद्धता भी होगी.

हमेशा साफ-साफ लिखने की प्रयास करे, क्योकि जब तक एग्जामिनर आपके राइटिंग को पढ़कर कर समझ नही जाते है, तब तक आपको मार्क्स नही दे सकते है 

कई बार ऐसा होता है की स्टूडेंट्स प्रश्न का उत्तर सही लिखे होते है फिर भी उन्हें उस प्रश्न पर मार्क्स नही मिलता है, जिसका वजह है, राइटिंग में शुद्धता न होना, इसलिए राइटिंग स्किल में शुद्धता लाइए. अगर आप बताए गए नियम का पालन करते है तो आप किसी भी बोर्ड एग्जाम की तैयारी आसानी से कर सकते है.

एग्जाम में आए हुए पुराने प्रश्नों के हल करे

ऐसा कई बार देखा गया है कि पुराने प्रश्न (एग्जाम में आए हुए प्रश्न) अगले साल 10वी के पूछे जाते है, इसलिए कोशिश करे करे पिछले 5 वर्ष के question पेपर को हल करे. 

इससे आपको यह अंदाजा हो जाएगा की इस बार 10th के एग्जाम में किस टाइप के question आने की संभावना है, यह संभव तभी होगा जब आप प्रयास करेगे. समय को बर्बाद न करे बल्कि उसके साथ चले तभी एग्जाम के साथ-साथ लाइफ में आगे बढ़ने के चांसेस होंगे.

सुबह के समय जल्दी उठे

याद करने के लिए सुबह का समय बहुत अच्छा माना जाता है, सुबह-सुबह वातावरण साफ एवं स्वच्छ रहता है, शोरगुल तो बिल्कुल नही होती है, सुबह पढ़ने से मन इधर-उधर नही भटकता है और याद करने में आसानी होती है.

जो टॉपिक आपको जल्दी याद नही हो रहा उसे सुबह के समय में याद करने की कोशिश करे, कुछ ही समय में वह टॉपिक याद हो जायेगा. भारतीय संस्कृति में सुबह को विद्धवनों का समय कहा गया है क्योकि जो सोएगा वो हमेशा कुछ न कुछ खोएगा और जो जागेगा वो हमेशा कुछ न कुछ पाएगा.

Conclusion

मेट्रिक की तैयारी तो सभी करते है पर स्मार्ट पढ़ाई नही नही हो पाती, इसलिए 10वी एग्जाम में टॉप करने के कुछ बेहतरीन टिप्स बताया गया है उम्मीद करता हूँ यह टिप्स आपलोगों को अवश्य पसंद आया होगा. तैयारी ऐसी होनी चाहिए की एग्जाम हौल में बैठने के बाद ऐसा लगे, की यार ये सवाल तो बहुत आसान है कुछ अलग आना चाहिए था. ऐसा तभी लगेगा जब आप स्मार्ट स्टडी करेगें. 10th के एग्जाम से सम्बंधित को प्रश्न हो/ संदेह हो तो आप अपना प्रश्न/ अनुभव हमारे साथ शेयर कर सकते है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *