Home » Syllabus » UPSC Syllabus in Hindi 2022: प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा पैटर्न

UPSC Syllabus in Hindi 2022: प्रारंभिक और मुख्य परीक्षा पैटर्न

यूपीएससी सिलेबस | UPSC Syllabus in Hindi | UPSC Syllabus in Hindi PDF | Upsc ka Syllabus | यूपीएससी सिलेबस एवं परीक्षा पैटर्न

भारत में विभिन्न सरकारी सेवाओं और पदों पर उम्मीदवारों की भर्ती के लिए प्रत्येक वर्ष संघ लोक सेवा आयोग द्वारा देश की सबसे प्रतिष्ठित सिविल सेवा परीक्षा , IPS, IFS जैसे परीक्षा आयोजित की जाती है. इन परीक्षाओं के अंतर्गत विभिन्न प्रकार के पेपर होते है जिसे यूपीएससी सिलेबस के माध्यम से समझना सभी के लिए आवश्यक है.

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन की भर्ती परीक्षा में प्रत्येक वर्ष लाखों उम्मीदवार आवेदन पत्र भरते हैं और एग्जाम देते है. इस परीक्षा के माध्यम से, चयनित अभ्यर्थियों को भारत सरकार की प्रशासनिक व अन्य सेवाओं में नियुक्तियां प्रदान की जाती हैं; जैसे आईएएस (भारतीय प्रशासनिक सेवा), आईपीएस (भारतीय पुलिस सेवा), आईएफएस (भारतीय विदेश सेवा), आदि.

यूपीएससी द्वारा आयोजित की जाने वाली परीक्षाओं को सरलतापूर्वक क्लियर करने के लिए इंस्टिट्यूट या शिक्षक द्वारा Suggest किया जाता है कि यूपीएससी सिलेबस ध्यानपूर्वक अध्ययन करे. क्योंकि, यह एग्जाम का मुख्य भाग होता है और इसी के अंतर्गत एग्जाम में प्रश्न होने की संभावना अधिक होती है.

यहाँ यूपीएससी सिलेबस के सभी आवश्यक भागों पर विशेष ध्यान केन्द्रित किया गया है ताकि UPSC Syllabus in Hindi से सम्बंधित सभी तथ्यों को वर्णन बारीकी से किया जा सके.

यूपीएससी सिलेबस और परीक्षा पैटर्न 2022

यदि देश की सबसे प्रतिष्ठित परीक्षा जैसे सिविल सेवा परीक्षा आदि की तैयारी कर रहे हैं, तो यूपीएससी सिलेबस व परीक्षा पैटर्न की अध्ययन एग्जाम अधिक लाभ पहुंचा सकता है. विद्वानों के अनुसार UPSC Syllabus in Hindi & Exam Pattern का सही विश्लेषण एक तरह से सफलता के लिए पहला कदम होता है.

क्योंकि, इससे परीक्षा प्रारूप के बारे में आवश्यक जानकारी प्राप्त होता है. जैसे; यूपीएससी परीक्षा में कितने प्रश्न पूछे जाएंगे, कितने विषय होंगे, प्रश्नों की कुल संख्या, अधिकतम अंक, नकारात्मक अंकन कैसे होगा आदि

UPSC Syllabus in Hindi के माध्यम से एग्जाम में आने वाले सभी संभावित टॉपिक को कवर करेंगे और विस्तार से समझने का प्रयास भी करेगे. क्योंकि, ये यूपीएससी का मुख्य भाग होने के साथ-साथ एग्जाम क्लियर करने में भी मदद करता है.

यूपीएससी परीक्षा चरण

Upsc परीक्षा तीन प्रमुख भाग:

  • प्रारंभिक परीक्षा (Prelims Exam): सामान्य अध्ययन (GS) और सीएसएटी (CSAT or Civil Services Aptitude Test)
  • मुख्य परीक्षा (Mains Exam): 9 थ्योरी पेपर्स (GS I-IV, अनिवार्य भारतीय भाषा, अंग्रेजी भाषा, निबंध और वैकल्पिक-I, वैकल्पिक-II )
  • साक्षात्कार (Interview) :

मुख्य परीक्षा के दो भाग:

  1. मुख्य लिखित परीक्षा
  2. इंटरव्यू

प्रारंभिक परीक्षा (Prelims) में दो पेपर:

  1. GS l
  2. GS ll

यूपीएससी प्रारंभिक (Prelims) परीक्षा पैटर्न

UPSC Syllabus in Hindi के अनुसार:

Upsc परीक्षा पैटर्न, सामान्य अध्ययन I 

कुल प्रश्न 100 
कुल अंक 200 
समय  2 घंटे
नकारात्मक अंक एक तिहाई
प्रश्न पत्र का प्रकार वस्तुनिष्ठ

Upsc परीक्षा पैटर्न, सामान्य अध्ययन II:

कुल प्रश्न 80 
कुल अंक 200  
समय 2 घंटे
नकारात्मक अंक एक तिहाई
प्रश्न पत्र का प्रकार वस्तुनिष्ठ

Note: आईएएस प्रारंभिक परीक्षा के दो प्रश्नपत्रों निम्न प्रकार है:

1. सामान्य अध्ययन

  • सामान्य अध्ययन परीक्षा प्रारंभिक परीक्षा का पहला पेपर है.
  • परीक्षा का उद्देश्य सामान्य जागरूकता को विभिन्न विषयों में परीक्षण करना है जिसमें शामिल विषय भारतीय राजनीति, भूगोल, इतिहास, भारतीय अर्थव्यवस्था, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, पर्यावरण,पारिस्थितिकी, अंतर्राष्ट्रीय संबंध और संबंधित यूपीएससी करंट अफेयर्स आदि है.

2. सिविल सेवा योग्यता परीक्षा (सीएसएटी)

  • UPSC प्रीलिम्स सिलेबस का उद्देश्य ‘रीडिंग कॉम्प्रिहेंशन’ और पूछे जाने वाले ‘डिसीजन मेकिंग’ प्रश्नों के अलावा ‘तर्क और विश्लेषणात्मक’ प्रश्नों को हल करने में छात्रों की योग्यता का आकलन करना है.
  • ‘निर्णय लेना’ आधारित प्रश्नों को आम तौर पर नकारात्मक अंकों से छूट दी जाती है, ताकि उम्मीवारो में विस्वास पैदा किया जा सके.

UPSC मेन्स परीक्षा पैटर्न

PaperSubjectsMarks
पेपर-A
(क्वालीफाइंग)
उम्मीदवार द्वारा चुने जाने वाले भारतीय भाषा में से कोई एक300 marks
पेपर-B
(क्वालीफाइंग)
अंग्रेजी300 marks
पेपर-Iनिबंध250 Marks
पेपर-II
सामान्य अध्ययन-I
भारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व
समाज का इतिहास और भूगोल
250 Marks
पेपर-III
सामान्य अध्ययन-II
शासन, संविधान
राजनीति
सामाजिक न्याय और अंतर्राष्ट्रीय संबंध
250 Marks
पेपर-IV
सामान्य अध्ययन -III
प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव-विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन250 Marks
पेपर-V
सामान्य अध्ययन -IV
नैतिकता, अखंडता और एप्टीट्युड250 Marks
पेपर-VIवैकल्पिक विषय का पेपर 1250 Marks
पेपर-VIIवैकल्पिक विषय का पेपर 2250 Marks

यूपीएससी मेन्स के महत्वपूर्ण तथ्य:

  • मेन्स सिविल सेवा परीक्षा के दूसरे चरण में गठन करती है.
  • प्रारंभिक परीक्षा में सफल होने के बाद ही आईएएस मेन्स लिखने की अनुमति प्रदान की जाती है.
  • मुख्य परीक्षा अकादमिक प्रतिभा और समयबद्ध तरीके से प्रश्न की आवश्यकताओं के अनुसार समझ को प्रस्तुत करने की क्षमता का आकलन करती है.
  • यूपीएससी मेन्स परीक्षा में 9 पेपर और दो क्वालिफाइंग पेपर 300 अंकों के होते हैं.
  • दो क्वालीफाइंग पेपर इस प्रकार हैं:
    • भारतीय भाषा का कोई भी एक पेपर
    • अंग्रेजी भाषा का एक पेपर
  • सामान्य अध्ययन और वैकल्पिक विषय के प्रश्नपत्र, दोनों भाषा के प्रश्नपत्रों से 25% अंक प्राप्त कर सकते हैं.

UPSC Syllabus in Hindi के सामान्य अध्ययन के चार पेपर इस प्रकार है:

विषयसिलेबस
सामान्य अध्ययन Iभारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व का इतिहास और भूगोल
सामान्य अध्ययन IIशासन, संविधान, सामाजिक न्याय, राजनीति, अंतर्राष्ट्रीय सम्बन्ध
सामान्य अध्ययन IIIप्रद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विभिन्नता, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन
सामान्य अध्ययन IVईमानदारी, आचार-विचार, कौशल

UPSC Syllabus in Hindi Highlights

परीक्षा का नामसिविल सेवा परीक्षा
संचालक प्राधिकरणसंघ लोक सेवा आयोग
परीक्षा का मोडऑफलाइन
चरणप्रारंभिक परीक्षा
मेन्स परीक्षा
साक्षात्कार
यूपीएससी परीक्षा में कुल पेपरप्रारंभिक: 2
मेन्स: 7
परीक्षा की अवधिप्रारंभिक: 2 घंटे (प्रत्येक पेपर): कुल 4 घंटे
मेन्स: 3 घंटे (प्रत्येक पेपर): कुल 27 घंटे
प्रश्नों के प्रकारप्रारंभिक: ऑब्जेक्टिव
मेन्स: सब्जेक्टिव
योग्यतास्नातक डिग्री: न्यूनतम
अटेम्प्टस6 अटेम्प्टस
(एससी / एसटी के लिए कोई प्रतिबंध नहीं है)
ऑफिसियल वेबसाइटhttps://www.upsc.gov.in/

UPSC Syllabus in Hindi – Civil Services Preliminary Exam

सिविल सेवा प्रारंभिक परीक्षा में 200 अंकों के दो अनिवार्य पेपर शामिल हैं (सामान्य अध्ययन पेपर I और सामान्य अध्ययन पेपर- II). प्रश्न बहुविकल्पीय, वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे. प्रीलिम्स के अंकों को अंतिम रैंकिंग के लिए नहीं, बल्कि मुख्य परीक्षा के लिए योग्यता के लिए गिना जाता है.

आयोग सिविल सेवा (मुख्य) परीक्षा के लिए अर्हता प्राप्त करने के लिए उम्मीदवारों की एक सूची तैयार करेगा, जो सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा के सामान्य अध्ययन पेपर II में न्यूनतम मार्क्स अंक 33% और सामान्य अध्ययन पेपर- I के कुल मार्क्स अंकों के आधार पर होगी. सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा के रूप में आयोग द्वारा निर्धारित किया जा सकता है.

अवश्य पढ़े,

पेपर- I के लिए यूपीएससी पाठ्यक्रम – 200 अंक

वस्तुनिष्ठ पेपर दो घंटे की अवधि का होता है और 100 प्रश्न होंगे. प्रारंभिक परीक्षा के टॉपर्स तय करने के लिए केवल इस पेपर के अंकों की गिनती की जाती है। जीएस पेपर 1 का UPSC सिलेबस नीचे दिया गया.

  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय महत्व की समसामयिक घटनाएं
  • भारत का इतिहास और भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन।भारतीय और विश्व भूगोल-भारत का भौतिक, सामाजिक, आर्थिक भूगोल और दुनिया
  • भारतीय राजनीति और शासन-संविधान, राजनीतिक व्यवस्था, पंचायती राज, जनतानीति, अधिकार मुद्दे, आदि
  • आर्थिक और सामाजिक विकास-सतत विकास, गरीबी, समावेशन, जनसांख्यिकी, सामाजिक क्षेत्र की पहल, आदि
  • पर्यावरण पारिस्थितिकी, जैव-विविधता और जलवायु परिवर्तन पर सामान्य मुद्दे – जो करते हैं.
  • विषय विशेषज्ञता की आवश्यकता नहीं है.
  • सामान्य विज्ञान

पेपर- II के लिए यूपीएससी पाठ्यक्रम – 200 अंक

  • समझ; संचार कौशल सहित पारस्परिक कौशल.
  • तार्किक तर्क और विश्लेषणात्मक क्षमता.
  • निर्णय लेना और समस्या का समाधान करना.
  • सामान्य मानसिक क्षमता.
  • मूल संख्या (संख्या और उनके संबंध, परिमाण के क्रम, आदि) (कक्षा X)
  • डेटा इंटरप्रिटेशन

नोट 1: UPSC Syllabus in Hindi सिविल सेवा (प्रारंभिक) परीक्षा का पेपर-II एक अर्हक पेपर होगा जिसमें न्यूनतम योग्यता अंक 33% निर्धारित है.

नोट 2: प्रश्न बहुविकल्पीय, वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे.

यह वस्तुनिष्ठ पेपर दो घंटे की अवधि का होता है. 80 प्रश्न होंगे। इस पेपर के अंक प्रारंभिक परीक्षा के टॉपर्स तय करने के लिए गिने जाते हैं. यह पेपर केवल क्वालिफाइंग नेचर का होता है.

उम्मीदवारों को केवल यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि वे इस पेपर में कम से कम 33% अंक प्राप्त करें। जीएस पेपर 2 CSAT (सीएसएटी).

सिविल सेवा मुख्य परीक्षा

UPSC सिविल सेवा परीक्षा में एक उम्मीदवार की रैंक केवल मुख्य और साक्षात्कार में प्राप्त अंकों पर निर्भर करती है। मुख्य परीक्षा में 1750 अंक होते हैं जबकि साक्षात्कार में 275 अंक होते हैं.

लिखित परीक्षा (मुख्य) में निम्नलिखित नौ प्रश्नपत्र होंगे, लेकिन अंतिम योग्यता रैंकिंग के लिए केवल 7 प्रश्नपत्रों की गणना की जाएगी। शेष दो पेपरों के लिए, उम्मीदवार को प्रत्येक वर्ष यूपीएससी द्वारा निर्धारित न्यूनतम अंक प्राप्त करने चाहिए.

इसे भी पढ़े,

यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा का सिलेबस:

पेपर 1: (निबंध) – 250 अंक

UPSC Syllabus in Hindi निबंध पेपर में, उम्मीदवारों को कई विषयों पर निबंध लिखने की आवश्यकता हो सकती है। उनसे यह अपेक्षा की जाएगी कि वे अपने विचारों को व्यवस्थित ढंग से व्यवस्थित करने और संक्षिप्त रूप से लिखने के लिए निबंध के विषय के करीब रहें। प्रभावी और सटीक अभिव्यक्ति के लिए श्रेय दिया जाएगा।

पेपर-2: (सामान्य अध्ययन 1) – 250 अंक

UPSC सिविल सेवा मुख्य परीक्षा के लिए सामान्य अध्ययन 1 पेपर UPSC सिलेबस में निम्नलिखित प्रमुख क्षेत्र शामिल हैं: भारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व और समाज का इतिहास और भूगोल।

  • भारतीय विरासत और संस्कृति, विश्व और समाज का इतिहास और भूगोल
  • भारतीय संस्कृति – प्राचीन काल से आधुनिक काल तक कला रूपों, साहित्य और वास्तुकला के मुख्य पहलू।
  • आधुनिक भारतीय इतिहास अठारहवीं शताब्दी के मध्य से लेकर वर्तमान तक- महत्वपूर्ण घटनाएं, व्यक्तित्व, मुद्दे।
  • स्वतंत्रता संग्राम – इसके विभिन्न चरण और देश के विभिन्न हिस्सों से महत्वपूर्ण योगदानकर्ता/योगदान।
  • आजादी के बाद देश के भीतर समेकन और पुनर्गठन।
  • विश्व के इतिहास में 18वीं शताब्दी की घटनाएं शामिल होंगी जैसे औद्योगिक क्रांति, विश्व युद्ध, राष्ट्रीय सीमाओं का पुनर्निमाण, औपनिवेशीकरण, उपनिवेशवाद, राजनीतिक दर्शन जैसे साम्यवाद, पूंजीवाद, समाजवाद आदि- उनके रूप और समाज पर प्रभाव।
  • भारतीय समाज की मुख्य विशेषताएं, भारत की विविधता।
  • महिलाओं और महिला संगठनों की भूमिका, जनसंख्या और संबंधित मुद्दे, गरीबी और विकास संबंधी मुद्दे, शहरीकरण, उनकी समस्याएं और उनके उपचार।
  • भारतीय समाज पर वैश्वीकरण के प्रभाव।
  • सामाजिक अधिकारिता, सांप्रदायिकता, क्षेत्रवाद और धर्मनिरपेक्षता।
  • विश्व के भौतिक भूगोल की मुख्य विशेषताएं।
  • दुनिया भर में प्रमुख प्राकृतिक संसाधनों का वितरण (दक्षिण एशिया और भारतीय उपमहाद्वीप सहित); दुनिया के विभिन्न हिस्सों (भारत सहित) में प्राथमिक, माध्यमिक और तृतीयक क्षेत्र के उद्योगों के स्थान के लिए जिम्मेदार कारक।
  • भूकंप, सुनामी, ज्वालामुखी गतिविधि, चक्रवात आदि जैसी महत्वपूर्ण भूभौतिकीय घटनाएं, भौगोलिक विशेषताएं और उनके स्थान-महत्वपूर्ण भौगोलिक विशेषताओं (जल-निकायों और बर्फ-टोपी सहित) और वनस्पतियों और जीवों में परिवर्तन और ऐसे परिवर्तनों के प्रभाव।

पेपर-3: सामान्य अध्ययन- II

  • शासन, संविधान, राजनीति, सामाजिक न्याय और अंतर्राष्ट्रीय संबंध
  • भारतीय संविधान—ऐतिहासिक आधार, विकास, विशेषताएं, संशोधन, महत्वपूर्ण प्रावधान और बुनियादी संरचना।
  • संघ और राज्यों के कार्य और उत्तरदायित्व, संघीय ढांचे से संबंधित मुद्दे और चुनौतियाँ, शक्तियों और वित्त का हस्तांतरण •स्थानीय स्तर और उसमें चुनौतियाँ।
  • विभिन्न अंगों के बीच शक्तियों का पृथक्करण विवाद निवारण तंत्र और संस्थान।
  • अन्य देशों के साथ भारतीय संवैधानिक योजना की तुलना।
  • संसद और राज्य विधायिका- संरचना, कार्यप्रणाली, व्यवसाय का संचालन, शक्तियां और विशेषाधिकार और इनसे उत्पन्न होने वाले मुद्दे।
  • कार्यपालिका और न्यायपालिका की संरचना, संगठन और कामकाज – सरकार के मंत्रालय और विभाग; दबाव समूह और औपचारिक/अनौपचारिक संघ और राजनीति में उनकी भूमिका।
  • जन प्रतिनिधित्व अधिनियम की मुख्य विशेषताएं।
  • विभिन्न संवैधानिक पदों, शक्तियों, कार्यों और विभिन्न संवैधानिक निकायों के उत्तरदायित्वों पर नियुक्ति।
  • सांविधिक, नियामक और विभिन्न अर्ध-न्यायिक निकाय।
  • विभिन्न क्षेत्रों में विकास के लिए सरकारी नीतियां और हस्तक्षेप और उनके डिजाइन और कार्यान्वयन से उत्पन्न होने वाले मुद्दे।
  • विकास प्रक्रियाएं और विकास उद्योग – गैर सरकारी संगठनों, स्वयं सहायता समूहों, विभिन्न समूहों और संघों, दाताओं, दान, संस्थागत और अन्य हितधारकों की भूमिका।
  • केंद्र और राज्यों द्वारा आबादी के कमजोर वर्गों के लिए कल्याणकारी योजनाएं और इन योजनाओं का प्रदर्शन; इन कमजोर वर्गों के संरक्षण और बेहतरी के लिए गठित तंत्र, कानून, संस्थान और निकाय।
  • स्वास्थ्य, शिक्षा, मानव संसाधन से संबंधित सामाजिक क्षेत्र/सेवाओं के विकास और प्रबंधन से संबंधित मुद्दे।
  • गरीबी और भूख से संबंधित मुद्दे।
  • के महत्वपूर्ण पहलू, पारदर्शिता और जवाबदेही, ई-गवर्नेंस- अनुप्रयोग, मॉडल, सफलताएं, सीमाएं और क्षमता; नागरिक चार्टर, पारदर्शिता और जवाबदेही और संस्थागत और अन्य उपाय।
  • लोकतंत्र में सिविल सेवाओं की भूमिका।
  • भारत और उसके पड़ोस- संबंध।
  • भारत से जुड़े और/या भारत के हितों को प्रभावित करने वाले द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक समूह और समझौते।
  • भारत के हितों, भारतीय डायस्पोरा पर विकसित और विकासशील देशों की नीतियों और राजनीति का प्रभाव।
  • महत्वपूर्ण अंतर्राष्ट्रीय संस्थाएं, एजेंसियां और मंच – उनकी संरचना, अधिदेश।

 पेपर-4: सामान्य अध्ययन- III

  • प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव-विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन
  • भारतीय अर्थव्यवस्था और योजना, संसाधन जुटाने, विकास, विकास और रोजगार से संबंधित मुद्दे।
  • समावेशी विकास और इससे उत्पन्न होने वाले मुद्दे।
  • सरकारी बजट।
  • प्रमुख फसलें – देश के विभिन्न हिस्सों में फसल पैटर्न – विभिन्न प्रकार की सिंचाई और सिंचाई प्रणाली; कृषि उपज और मुद्दों और संबंधित बाधाओं का भंडारण, परिवहन और विपणन;
  • किसानों की सहायता में ई-प्रौद्योगिकी।
  • प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष कृषि सब्सिडी और न्यूनतम समर्थन मूल्य से संबंधित मुद्दे; सार्वजनिक वितरण प्रणाली – उद्देश्य, कार्यप्रणाली, सीमाएं, सुधार; बफर स्टॉक और खाद्य सुरक्षा के मुद्दे; प्रौद्योगिकी मिशन;
  • पशु-पालन का अर्थशास्त्र।
  • भारत में खाद्य प्रसंस्करण और संबंधित उद्योग- कार्यक्षेत्र’ और महत्व, स्थान, अपस्ट्रीम और डाउनस्ट्रीम आवश्यकताएँ, आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन।
  • भारत में भूमि सुधार।
  • अर्थव्यवस्था पर उदारीकरण के प्रभाव, औद्योगिक नीति में परिवर्तन और औद्योगिक विकास पर उनके प्रभाव।
  • बुनियादी ढांचा: ऊर्जा, बंदरगाह, सड़कें, हवाई अड्डे, रेलवे आदि।
  • निवेश मॉडल।
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी- दैनिक जीवन में विकास और उनके अनुप्रयोग और प्रभाव।
  • विज्ञान और प्रौद्योगिकी में भारतीयों की उपलब्धियां; प्रौद्योगिकी का स्वदेशीकरण और नई प्रौद्योगिकी का विकास।
  • आईटी, अंतरिक्ष, कंप्यूटर, रोबोटिक्स, नैनो-प्रौद्योगिकी, जैव-प्रौद्योगिकी और बौद्धिक संपदा अधिकारों से संबंधित मुद्दों के क्षेत्र में जागरूकता।
  • संरक्षण, पर्यावरण प्रदूषण और गिरावट, पर्यावरणीय प्रभाव आकलन।
  • आपदा और आपदा प्रबंधन।
  • विकास और उग्रवाद के प्रसार के बीच संबंध।
  • आंतरिक सुरक्षा के लिए चुनौतियां पैदा करने में बाहरी राज्य और गैर-राज्य अभिनेताओं की भूमिका।
  • संचार नेटवर्क के माध्यम से आंतरिक सुरक्षा की चुनौतियां, आंतरिक सुरक्षा चुनौतियों में मीडिया और सोशल नेटवर्किंग साइटों की भूमिका, साइबर सुरक्षा की मूल बातें; मनी लॉन्ड्रिंग और इसकी रोकथाम।
  • सीमावर्ती क्षेत्रों में सुरक्षा चुनौतियाँ और उनका प्रबंधन – संगठित के संबंध
  • आतंकवाद के साथ अपराध।
  • विभिन्न सुरक्षा बल और एजेंसियां और उनका जनादेश।

पेपर-5: सामान्य अध्ययन- IV

इस पेपर में उम्मीदवारों के दृष्टिकोण और अखंडता, सार्वजनिक जीवन में ईमानदारी और समाज से निपटने में उनके द्वारा सामना किए जाने वाले विभिन्न मुद्दों और संघर्षों के लिए उनके समस्या समाधान दृष्टिकोण से संबंधित मुद्दों के दृष्टिकोण और दृष्टिकोण का परीक्षण करने के लिए प्रश्न शामिल होंगे।

इन पहलुओं को निर्धारित करने के लिए प्रश्न केस स्टडी दृष्टिकोण का उपयोग कर सकते हैं। निम्नलिखित व्यापक क्षेत्रों को कवर किया जाएगा:

नैतिकता और मानव इंटरफेस: मानव क्रियाओं में नैतिकता का सार, निर्धारक और परिणाम; नैतिकता के आयाम; नैतिकता – निजी और सार्वजनिक संबंधों में। मानवीय मूल्य – महान नेताओं, सुधारकों और प्रशासकों के जीवन और शिक्षाओं से सबक; मूल्यों को विकसित करने में पारिवारिक समाज और शैक्षणिक संस्थानों की भूमिका।

  • मनोवृत्ति: सामग्री, संरचना, कार्य; इसका प्रभाव और विचार और व्यवहार के साथ संबंध; नैतिक और राजनीतिक दृष्टिकोण; सामाजिक प्रभाव और अनुनय।
  • सिविल सेवा, सत्यनिष्ठा, निष्पक्षता और के लिए योग्यता और मूलभूत मूल्य
  • गैर-पक्षपातपूर्णता, निष्पक्षता, लोक सेवा के प्रति समर्पण, कमजोर वर्गों के प्रति सहानुभूति, सहिष्णुता और करुणा।
  • भावनात्मक बुद्धिमत्ता-अवधारणाएं, और प्रशासन और शासन में उनकी उपयोगिताएं और अनुप्रयोग।
  • भारत और विश्व के नैतिक विचारकों और दार्शनिकों का योगदान।

लोक प्रशासन में लोक/सिविल सेवा मूल्य और नैतिकता: स्थिति और समस्याएं; सरकारी और निजी संस्थानों में नैतिक चिंताएं और दुविधाएं; नैतिक मार्गदर्शन के स्रोत के रूप में कानून, नियम, विनियम और विवेक; जवाबदेही और नैतिक शासन; शासन में नैतिक और नैतिक मूल्यों का सुदृढ़ीकरण; अंतर्राष्ट्रीय संबंधों और वित्त पोषण में नैतिक मुद्दे; निगम से संबंधित शासन प्रणाली।

शासन में ईमानदारी: लोक सेवा की अवधारणा; शासन और सत्यनिष्ठा का दार्शनिक आधार; सरकार में सूचना साझा करना और पारदर्शिता, सूचना का अधिकार, आचार संहिता, आचार संहिता, नागरिक चार्टर, कार्य संस्कृति, सेवा वितरण की गुणवत्ता, सार्वजनिक धन का उपयोग, भ्रष्टाचार की चुनौतियां।

पेपर‐ 6 और 7: (वैकल्पिक विषय पेपर 2) – 250 अंक

 इतिहास (History)
 पशुपालन एवं पशु चिकित्सा विज्ञान (Animal Husbandry and Veterinary Science)
 नृविज्ञान (Anthropology)
 वनस्पति विज्ञान (Botany)
 प्राणि विज्ञान (Zoology)
 सिविल इंजीनियरी (Civil Engineering)
 गणित (Mathematics)
 कृषि विज्ञान (Agriculture Science)
 अर्थशास्त्र (Economics)
 विद्युत इंजीनियरी (Electrical Engineering)
 भूगोल (Geography)
 भू-विज्ञान (Geology)
 रसायन विज्ञान (Chemistry)
 समाज शास्त्र (Sociology)
 प्रबंधन (Management)
 यांत्रिकी इंजीनियरी (Mechanical Engineering)
 चिकित्सा विज्ञान (Medical Science)
 दर्शनशास्त्र (Philosophy)
 भौतिकी (Physics)
 राजनीति विज्ञान तथा अंतर्राष्ट्रीय संबंध (Political Science & International Relations)
 मनोविज्ञान (Psychology)
 लोक प्रशासन (Public Administration)
 वाणिज्य शास्त्र तथा लेखा विधि (Commerce & Accountancy)
 सांख्यिकी (Statistics)
 विधि (Law)

निम्नलिखित में से किसी एक भाषा का साहित्य: असमिया, बंगाली, बोडो, डोगरी, गुजराती, हिंदी, कन्नड़, कश्मीरी, कोंकणी, मैथिली, मलयालम, मणिपुरी, मराठी, नेपाली, उड़िया, पंजाबी, संस्कृत, संथाली, सिंधी, तमिल, तेलुगु, उर्दू और अंग्रेजी.

क्वालिफाइंग पेपर

पेपर ए – भारतीय भाषा – संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल भाषाओं में से उम्मीदवार द्वारा चुनी जाने वाली भारतीय भाषाओं में से एक. अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड और सिक्किम राज्यों के उम्मीदवारों के लिए यह पेपर अनिवार्य नहीं होगा.

Paper A – अंक 300

क्वालिफाइंग पेपर बी – अंतिम रैंकिंग के लिए नहीं गिना जाता है.

पेपर बी – अंग्रेजी भाषा – 300 अंक.

UPSC Syllabus – Civil Services Interview

उम्मीदवार का साक्षात्कार एक बोर्ड द्वारा किया जाएगा, जिसके सामने उसके करियर का रिकॉर्ड होगा. उनसे सामान्य हित के मामलों पर प्रश्न पूछे जाएंगे. साक्षात्कार का उद्देश्य सक्षम और निष्पक्ष पर्यवेक्षकों के बोर्ड द्वारा सार्वजनिक सेवा में कैरियर के लिए उम्मीदवार की व्यक्तिगत उपयुक्तता का आकलन करना है.

परीक्षण का उद्देश्य एक उम्मीदवार की मानसिक क्षमता का न्याय करना है. मोटे तौर पर, यह वास्तव में न केवल उसके बौद्धिक गुणों का बल्कि सामाजिक लक्षणों और समसामयिक मामलों में उसकी रुचि का भी आकलन है.

जिन गुणों का मूल्यांकन किया जाना है उनमें मानसिक सतर्कता, आत्मसात करने की महत्वपूर्ण शक्तियां, स्पष्ट और तार्किक व्याख्या, निर्णय का संतुलन, विविधता और रुचि की गहराई, सामाजिक सामंजस्य और नेतृत्व की क्षमता, बौद्धिक और नैतिक अखंडता शामिल हैं.

साक्षात्कार की तकनीक एक सख्त जिरह की नहीं है, बल्कि एक स्वाभाविक, हालांकि निर्देशित और उद्देश्यपूर्ण बातचीत है जिसका उद्देश्य उम्मीदवार के मानसिक गुणों को प्रकट करना है.

Upsc साक्षात्कार परीक्षा का उद्देश्य उम्मीदवारों के विशेष या सामान्य ज्ञान की परीक्षा नहीं है, जिसका उनके लिखित पत्रों के माध्यम से पहले ही परीक्षण किया जा चुका है.

उम्मीदवारों से अपेक्षा की जाती है कि उन्होंने न केवल अपने अकादमिक अध्ययन के विशेष विषयों में बल्कि अपने राज्य या देश के भीतर और बाहर होने वाली घटनाओं के साथ-साथ विचार की आधुनिक धाराओं और नई खोजों में भी बुद्धिमानी से रुचि ली है. पढ़े-लिखे युवाओं में जिज्ञासा जगानी चाहिए.

UPSC Syllabus in Hindi PDF

यूपीएससी भारत का सबसे प्रतिष्ठित परीक्षाओं में से एक है. इस एग्जाम की मान्यता भारत के अन्य परीक्षाओं से अधिक है. इसलिए, प्रत्येक वर्ष लाखों उम्मीदवार यूपीएससी के लिए अप्लाई और एग्जाम देते है. UPSC Syllabus in Hindi के माध्यम से यूपीएससी सिलेबस यहाँ पीडीऍफ़ में दिया गया है जिसे क्लिक कर डाउनलोड कर सकते है.

यूपीएससी सिलेबस पीडीऍफ़ डाउनलोड करे

इन्हें भी पढ़े,

Polytechnic कैसे करेPhD Course कैसे करे
B.Ed कैसे करेB.Tech कैसे करे

यूपीएससी सिलेबस – FAQs

Q. UPSC में कितने विषय होते हैं?

यूपीएससी Syllabus में 40 से 50 विषय होते है, जिसमे कुछ ऑप्शनल विषय भी होते है. अर्थात, एग्जाम के दौरान कुछ subject स्वं से चयन करते होते है और कुछ सिलेबस के अंतर्गत आते है.

Q. यूपीएससी का सिलेबस क्या होता है?

यूपीएससी सिलेबस एक प्रकार का विषयों का ग्रुप है जिसमे विषयों को आवश्यता अनुसार टॉपिक के रूप में विभाजित किया गया होता है. एग्जाम में प्रश्न यूपीएससी सिलेबस के अंतर्गत ही पूछा जाता है. इसलिए, सिलेबस का अध्ययन आवश्यक होता है.

Q. यूपीएससी इंटरव्यू कितने नंबर का होता है?

यूपीएससी इंटरव्यू 275 अंक का होता है.

Leave a Comment