ग्राफ़िक डिजाईन कोर्स क्या है और कैसे करे- जाने पूरी जानकारी

Whatsapp GroupJoin
Telegram channelJoin

आज के समय का सबसे famous कोर्स ग्राफ़िक डिजाईन है. क्योकि, आज हम जिस तरफ भी देखते है, वहां Graphic Designing के कुछ न कुछ नमूने देखने को जरुर मिल जाता है. जैसे; stylish Text, Stylish Images और Combined color etc. ये सभी Graphic Designing के अंतर्गत ही आते है.

वैसे सभी को वही चीज ज्यदा पसंद आता है जिसे सब बार-बार देखते है या जिसके बारे ज्यादा सोचते है. ठीक वैसे ही Graphic Design है. हमें कही न कही Graphic Design के Graphics, Images Combined Color आदि दिख ही जाते है. परिणामस्वरूप, हम उसपर attract हो जाते है एवं उसके बारे जानने और समझने के इच्छुक हो जाते है.

Graphic Design एक तेजी से उभरता हुआ Industry बन रहा है. जो आगे चलकर लोगो का एक बहुत बड़ा हिस्सा Graphic Design से belongs करेंगा, जिसका सीधा मतलब है Attraction. क्योकि, जो चीज हमें देखने में ज्यदा अच्छा लगता है. अक्शर, हम उसी के पीछे भागते है.

ठीक वैसे ही ग्राफ़िक डिजाइनिंग फील्ड है जिसे बहुत लोग पसंद करते है. Graphic Design एक Arts का Field है. इसीलिए यह कोर्स उनलोगों के लिए बिलकुल सही है जिन्हें आर्ट्स आता है वो इसमें ज्यादा सुरक्षित महसूस करेंगे.ग्राफ़िक डिजाईन के लिए minimum Qualification 12th है. लेकिन आप Graduate है, तो आपके लिए और अच्छा है. क्योकि, 12th + Graphic Design कोर्स पर जॉब्स लेने में थोड़ी परेशानी होटी है.

ग्राफ़िक डिजाईन कोर्स क्या है पूरी जानकारी

ग्राफ़िक डिजाईन को Communication Design भी कहा जाता है. वैसे इसका नाम और काम दोनों बहुत है पर इसमें Ideas की planning, Projecting, Visual, Clarity in Graphics, Textual Content और Color Combination का होना एक Graphic Design है. जिस form का use करके हम इसे बनाते है वो भौतिक या आभासी दोनों हो सकता है.

दुसरे शब्दों में,

Graphic Design, Images, Words, Size ( Circle, Rectangle, hexagon, Triangle, etc.) और Colors Combination का use करके किसी Messages को ब्यक्त करने का एक माध्यम है जिसे Graphic Designing कहा जाता है.

Graphic Design अपने आप में एक बहुत ही बड़ी प्रतिष्ठित काम है जिसके लिए आपके पास Creative Ideas का होना बहुत ही जरुरी है. और शायद इसीलिए कहा भी जाता है कि Creativity, Graphic डिजाइन की पहली जरुरत है. इसके अलवा Industry के Trades की अच्छी जानकारी का होना लाजमी है.

ग्राफ़िक डिजाईन के बहुत से function होते है और सबका अलग-अलग नाम भी होता है. निचे कुछ चुनिन्दा नाम दिया गया है. जिसका use Graphic Design के अंतर्गत ज्यादा होता है. जैसे; साइनिज, Identity Corporate, packaging, Printed Content, Online Banner, Album, Film And Television, Greeting Card आदि.

ग्राफ़िक डिज़ाइनर कैसे बने?

ग्राफ़िक डिज़ाइनर बनने के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रकार के इंस्टिट्यूट उपलब्ध है. जहाँ ग्राफ़िक डिजाइनिंग सम्बंधित कोर्स सरलता कर सकते है. डिज़ाइनर बनने के लिए किसी Famous इंस्टिट्यूट से कोर्स करना सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है. क्योंकि, वहाँ प्लेसमेंट की संभावना अधिक होती है.

भारत में सबसे अधिक ग्राफ़िक डिजाइनिंग के इंस्टिट्यूट और कॉलेज उपलब्ध है. जो अलग-अलग प्रकार के डिजाइनिंग में डिप्लोमा courses प्रदान करते है. इसलिए, फीस और ट्रेनिंग Facility के अनुरूप ही कॉलेज पसंद करे.

कुछ आवश्यक पॉइंट जो ग्राफ़िक डिज़ाइनर बनने में मदद करता है.

ग्राफिक डिजाइन सिद्धांतों को समझें
ग्राफिक डिजाइन कोर्स में दाखिला लें
प्रमुख ग्राफिक डिज़ाइन टूल सीखें
अपने ग्राफिक डिजाइन कौशल को विकसित करने के लिए अपनी Skills पर काम करें
अपने ग्राफिक डिजाइन कार्य को प्रदर्शित करने के लिए एक पोर्टफोलियो विकसित करें

Graphic Designing कोर्स के लिए योग्यता

वैसे Students जिन्होंने किसी भी स्ट्रीम (Science / Commerce / Arts) से 10+2 पास किया है. वे स्नातक स्तर पर ग्राफिक डिजाइन कोर्स कर सकते हैं.

हालांकि, अधिकांश लोकप्रिय कॉलेज / इंस्टिट्यूट / यूनिवर्सिटी उम्मीदवारों को अपनी प्रवेश प्रक्रिया में भाग लेने की अनुमति तभी देते हैं. जब उन्होंने किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड से अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की हो.

लेकिन पीजी स्तर पर ग्राफिक डिजाइन कोर्स करने के लिए, Students के पास डिजाइन में स्नातक की डिग्री अनिवार्य है.

अर्थात, class 12 के बाद Graphic Designing का कोर्स किया जा सकता है. PG या ग्रेजुएशन लेवल पर डिग्री प्राप्त करने के लिए Graduate होना अनिवार्य है.

ग्राफ़िक डिजाईन कोर्स के लिए आवश्यक Skills

ग्राफिक डिजाइनर बनने के लिए, Students के पास निम्नलिखित Skills होना आवश्यक है.

CreativityKnowledge of Software
Knowledge of Programming LanguagesTime Management
VisualisationGood Communication Skills
Ability to Work in a TeamAbility to work with detail
Skill in visual designGood interpersonal skills
Ability to work long hourAbility to Work in Strict Deadlines
Knowledge of TypographyKnowledge of Colour theory

ग्राफ़िक डिजाईन कोर्स सिलेबस

ग्राफ़िक डिजाईन कोर्स के अंतर्गत निम्न प्रकार के टॉपिक का अध्ययन किया जाता है.

Introduction to Graphic DesigningShaping, Design & Illustration
TypographyGraphic Designing Softwares & Tools
Image Layout & EffectsPhotoshop
Corel DrawIllustrator
InDesignHTML/ Javascript
Adobe DreamweaverAdobe Flash
Adobe AuditionComputer Fundamentals
Art & Visual PerceptionVector Graphics for Designers

ग्राफ़िक डिजाईन कोर्स

India में Graphic Design का कोर्स Diploma और Degree दोनों लेवल पर है. Graphic Design Institutes लम्बे समय से Candidates को Training देते आ रहे है. अगर especially India में Graphics Training Institutes की बात करे, तो यह बहुत ही अच्छे और Affordable price पर Graphic Design Training provide करते है.

एक Professional Graphic Designer बनने में यह Course एक अच्छा योगदान निभाता है. जिसके लिए वैचारिक knowledge और skill की बहुत आवश्यकता होती है.

Graphic Design, Communication Design का एक Important हिस्सा है. जिसके विषय में प्रत्येक students को यह पता होना चाहिए. एक अच्छा Graphic Designer बनने के लिए उन्हें किन-किन पहलुयो पर विशेष ध्यान देना चाहिए.

निचे हम कुछ विशेष पहलुयो पर प्रकाश दाल रहे है जिससे आपका concept clear हो जायेगा.

  • Typography,
  • Typing Design,
  • Photography,
  • Packaging,
  • Print Designer,
  • साइनेज Design
  • Identity system etc.

अवश्य पढ़े,

Quality For Graphic Designing

Graphic Designer के लिए Observation दृष्टिकोण का होना बहुत आवश्यक है ताकि अपने डिजाईन को देख कर ये समझ सके की आपका क्लाइंट क्या चाहता है.

Artistic Ability, डिज़ाइनरो को अपने डिजाईन बनाने में सक्षम होना चाहिए ताकि वो क्लाइंट के सामने क्लासिक और यूनिक डिजाईन प्रेजेंट कर सके. अपने Ideas को sketching या Computer program के माध्यम से डिजाईन तैयार कर सके.

Communication Skills, Consumers, Client और दुसरे डिज़ाइनरो के साथ अच्छा Communicate कर सके और सुनिश्चित कर सके की उसके द्वारा बनाये गए डिजाईन Massage सटीकता से प्रतिबिंबित करता है.

Computer Skills, अधिकांशतः Designing का कार्य Computer के द्वारा ही तैयार किया जाता है. इसलिए, आवश्यक है की आपको Computer Knowledge हो.

And Most Important Creativity, हमें अपने क्रिएटिव आइडियाज को ही डिजाईन का रूप देना होता है. इसलिए, यह सबसे जरुरी है की हमें consumers के विचारो को एक नए तरीके से सोचने में सक्षम होना चाहिए तभी हम क्लाइंट्स को अपने तरफ मोड़ सकते है.

Graphic Designing Colleges

पर्ल एकेडमी, दिल्ली
नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन, अहमदाबाद
आईआईटी, मुम्बई
सिम्बोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन, पुणे
एरिना एनिमेशन, बंगलोर
इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ फाइन आर्ट्स, मोदीनगर
आईआईटी, गोहाटी
माया एकेडमी, पुणे
आर्च कॉलेज ऑफ डिज़ाइन, जयपुर

Graphic Designing Course का फीस

आमतौर पर, फीस आपके द्वारा चुने गए संस्थान और कोर्स की अवधि पर निर्भर करता है. चाहे वह Short Time Course हो या Long Time Course हो. संस्थान से संस्थान में फीस संरचना भिन्न-भिन्न होती है.

Famous इंस्टिट्यूट या कॉलेज में Graphic Design Course का न्यूनतम Fee 40,000 और maximum fees 2,50,000 के लगभग होता है.

Graphic Designing में करियर

Bachelor in Fine Arts, Post Graduate In Design, Graduate Diploma In Design, Visual Communication Design, Printing And Media Engineering आदि से अपना कोर्स पूरा करने के बाद आप Designing के फील्ड में एक बेहतरीन करियर बना सकते है.

इस Globalization के मौजूदा दौर में करियर के संभावनाए बहुत है. कई ऐसे छोटे-बड़े संस्थान है जो अपने लिए visual Brand ready करवाते है. आप उन संस्थानों के साथ जुड़ कर आसानी से काम कर सकते है.

Graphic Designers की Websites, Magazines, Books, Posters, Banners, computers Games, Product Packaging, Communication, Online Design, Corporate, Identity आदि जैसे जगहों पर अच्छे salary package के साथ काम कर सकते है जो आपके करियर को एक नइ उचाई देगा.

जॉब प्रोफाइल्स

  • Creative Director
  • Flash Animator
  • Art Director
  • Layout Designer
  • Art Production Manager
  • Package Designer
  • Brand Identity Developer
  • Visual Image Developer
  • UI Designer
  • Visual Journalist
  • SEO Consultant
  • Broadcast Designer
  • Logo Designer
  • Interface Designer
  • Web Designer
  • Multimedia Developer Content Developer
  • Content Management System specialist

Conclusion

Graphic Design कोर्स बहुत ही trending फील्ड है इसमें जॉब्स opportunities बहुत है. इसके लिए हमें creativity और थोड़ा extra thinking की आवश्यकता होती है तभी एक बेहतर Graphic Designer बन सकते है जिसे आपने Graphic Design के माध्यम से पढ़ा है.

Also Read,

NDA की तैयारी कैसे करेBPSC Kya Hai
LLB क्या है और Kaise KareBBA क्या है और कैसे
CA Kaise BaneIAS कैसे बने

पूछे जाने वाले सामन्य प्रश्न: FAQs

Q. ग्राफिक डिजाइनर का क्या काम होता है?

ग्राफ़िक डिज़ाइनर का काम टेक्स्ट और ग्राफिक की मदद से मेसेज इफेक्टिव बनाना है, ताकि फोटो के मदद से लोगो को क्लियर सन्देश दिया जा सके. इसमें विभिन्न प्रकार के कार्य जैसे इमेज, फोटो, ग्राफ़िक्स आदि शामिल है.

Q. ग्राफ़िक डिज़ाइन कोर्स कितने साल का होता है?

ग्राफ़िक डिजाइनिंग कोर्स 1 वर्ष से तीन वर्ष का होता है. यदि आप 12वी के बाद या ग्रेजुएशन के बाद करते है, तो 1 वर्ष का डिप्लोमा ग्राफ़िक डिजाइनिंग में कर सकते है.

Q. ग्राफिक डिजाइनर के लिए कौन सी स्ट्रीम सबसे अच्छी है?

ग्राफ़िक डिज़ाइनर बनाने के लिए किसी भी स्ट्रीम यानि साइंस आर्ट्स, कॉमर्स से कोर्स कर सकते है.

Whatsapp GroupJoin
Telegram channelJoin

2 thoughts on “ग्राफ़िक डिजाईन कोर्स क्या है और कैसे करे- जाने पूरी जानकारी”

Leave a Comment