BBA क्या है, कोर्स से सम्बंधित सभी जानकरी | BBA Course Details In Hindi

BBA Course Details in Hindi

बीबीए कोर्स भारत के सबसे प्रमुख  व्यवसायिक एवं प्रबंधनीय क्षेत्र है जिसमें बिजनेस से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी मुहैया कराया जाता है. यह एक ऐसा इंडस्ट्री है जिसमें अंतर्गत लीडरशिप स्किल की प्रमुखता अधिक होती है. 

भारत में ज्यादातर देखा गया है कि विद्यार्थी एमबीए करने से पहले बीबीए कोर्स करना पसंद करते हैं, ताकि बिजनेस इंडस्ट्री में अपनी प्रमुखता यानि पहचान बनाए रखें एवं उससे संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारियों का समूह इकट्ठा करें. 

बिजनेस एवं प्रबंध में अपने स्किल्स को और बेहतर बनाने के लिए बीबीए कोर्स करना अत्यंत आवश्यक होता है, ताकि इस इंडस्ट्री में हुए सभी घटनाओं एवं भविष्य में होने वाली उन सभी प्रतिक्रियाओं का विश्लेषण विस्तार से किया जा सके. जो भविष्य में बेहतर व्यवसाय स्थापित करने में मदद करे.

खुद का बिजनेस शुरू करना या बिजनेस को एक ऊंचाई तक ले जानेके लिए एक विशेष स्किल एवं विशेष मानसिकता की जरूरत होती है जो बीबीए कोर्स के द्वारा प्राप्त होता है.

बीबीए से संबंधित सभी महत्वपूर्ण पहलुओं की चर्चा BBA Course Details In Hindi के माध्यम से विस्तार से करेंगे. जैसे बीबीए क्या है बीबीए के लिए योग्यता क्या होती है बीबीए करने के लिए फीस आदि.

बीबीए क्या है और जरूरी क्यों है? BBA Course in Hindi

यह एक प्रोफेशनल अंडरग्रेजुएट डिग्री यानी एक विशेष स्नातक डिग्री होती है जो मुख्यतः 3 वर्ष का होता है, जिसे प्रमुख 6 सेमेस्टर में विभाजित किया गया होता है. बीबीए कोर्स को न्यूनतम 3 वर्ष और अधिकतम 5 वर्ष में पूरा किया जा सकता है.

यह बिजनेस इंडस्ट्री के सबसे महत्वपूर्ण कोर्सेज में से एक माना जाता है क्योंकि व्यवसायिक दुनिया के सबसे प्रमुख एवं यूनिक विचारधारा की खोज के माध्यम यही से तैयार किए जाते हैं जो युवाओं में एक सकारात्मक विचार एवं व्यवसायिक दुनिया को और बेहतर बनाने का संकल्प प्रदान करता है.

बीबीए कोर्स, व्यवसाय और उद्यमशीलता के विकास क्षेत्र में एक अनोखा कौशल प्रदान करता है जिसका असर व्यक्तित्व को निखारने एवं व्यवसाय को नई ऊंचाई प्रदान करने में एक अनोखा किरदार निभाता है. 

Ph.D से सम्बंधित सम्पूर्ण जानकरी

B.Tech कैसे करे जानकरी

बीबीए का फुल फॉर्म | BBA Course full Form in Hindi

कोर्स की प्रमुखता और अनिवार्यता  की पहचान उसके नाम से किया जा सकता है कि यह बिजनेस और प्रबंध में एक अहम योगदान देने के लिए सर्वोत्तम है.

वैसे बीबीए का फुल फॉर्म हिंदी में “व्यवसाय प्रबंधन में स्नातक” तथा अंग्रेजी में “बैचलर आफ बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन” होता है.

  • बीबीए का फुल फॉर्म हिंदी में = “व्यवसाय प्रबंधन में स्नातक”
  • अंग्रेजी में = “Bachelor Of Business Administration”

बीबीए कोर्स के लिए योग्यता

कोर्स की योग्यता, कॉलेज एवं संस्थान के अनुसार निर्धारित किए जाते हैं. लेकिन सामान्य मान्यता के अनुसार उम्मीदवार को कम से कम 12 वीं पास होना अनिवार्य होता है. साथ ही इसमें उम्र सीमा का भी प्रावधान है जो 17 वर्ष से 25 वर्ष के बीच होता है. 

इस कोर्स में स्ट्रीम यानी साइंस, कॉमर्स और आर्ट्स की कोई प्रमुखता नहीं होती है. किसी भी विषय से 12वीं पास किए हुए विद्यार्थी बीबीए कोर्स के लिए योग्य होते हैं.

  • किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से 10वीं कक्षा पास अनिवार्य
  • 10वीं कक्षा में कम से कम 50% अंक 
  • मान्यता प्राप्त संस्थान से 12वीं कक्षा 
  • 12वीं कक्षा में अंग्रेजी विषय के साथ 50% अंक अनिवार्य
  • इंग्लिश स्किल्स
  • कम्युनिकेशन स्किल्स

BBA में एडमिशन के लिए एंट्रेंस एग्जाम | बीबीए प्रवेश परीक्षा

भारतीय संस्थान, इंस्टिट्यूट एवं कॉलेज बीबीए में एडमिशन प्रदान करने के लिए एंट्रेंस एग्जाम का आयोजन करती हैं जिसे पास करना उम्मीदवारों के लिए अनिवार्य होता है.

एंट्रेंस एग्जाम के रिजल्ट के अनुसार उम्मीदवारों की एडमिशन प्रक्रिया पूरी की जाती है नीचे कुछ प्रमुख एंट्रेंस एग्जाम की लिस्ट दिए जा रहे हैं  जिसका आयोजन कॉलेज एवं संस्थान ऐडमिशन प्रक्रिया पूरा करने के लिए करते है.

AIMA UGAT :-  दरअसल, यह एक मानकीकृत Under Graduate Aptitude Test परीक्षा होता है जो विभिन्न undergraduae कार्यक्रमों जैसे MBA , IMBA, BBA ,BHM, B.Com, BCA आदि कैंडिडेट एडमिशन प्रक्रिया के लिए होता है.

SET:-  इसका पूरा नाम Symbiosis Entrance Test है इस परीक्षा का आयोजन BBA, BA आदि जैसे विभिन्न courses मैं प्रवेश लेने के लिए किया जाता है.

IPU CET:- इसका पूरा नाम Indra Prastha University Common Entrance Test होता है. यह एक विश्वविद्यालय स्तर की प्रवेश परीक्षा के लिए इसका आयोजन किया जाता है.

भारत में ऐसे कई कॉलेज एवं संस्थान हैं जो उच्च माध्यमिक अंकों के आधार पर BBA में एडमिशन लेने की सुविधा प्रदान करते हैं.  इसलिए कॉलेज और संस्थानों के विषय में अनिवार्य जानकारी इकट्ठा करें उसके पश्चात आगे का निर्णय सुनिश्चित करें.

बीबीए करने के फायदे

  • भविष्य में Entrepreneur बनने के मौके 
  • बीबीए के बाद उच्च शिक्षा यानी एमबीए 
  • कम्युनिकेशन स्किल में सुधार और बिजनेस डिसीजन लेने में दक्षता हासिल करना
  • अकाउंटिंग, मार्केटिंग, ऑर्गेनाइजेशन, मैनेजमेंट, फाइनेंस, इंटरनेशनल, बिज़नेस में करियर बनाने का मौका
  • गवर्नमेंट सेक्टर और आईटी इंडस्ट्री में जॉब की संभावना 
  • इंटरनेशनल लेवल पर काम करने की मौके

बीबीए कोर्स फीस | BBA Fees in Hindi

इस कोर्स की फीस संस्थान एवं कॉलेज के एजुकेशनल फैसिलिटी के अनुसार निर्धारित होता है जो कॉलेज जिस प्रकार के फैसिलिटी मुहैया कराते है. ठीक उसी के अनुसार कोर्स फ़ीस तैयार किया जाता है. 

BBA की कोर्स फीस मुख्यता दो चरणों में मापा जाता है पहला सरकारी और दूसरा प्राइवेट. प्राइवेट कॉलेज एवं संस्थानों में बीबीए कोर्स फ़ीस तकरीबन दो लाख से चार लाख तथा सरकारी कॉलेजों और संस्थानों में एक लाख से 2 लाख होती है.

बीबीए की फ़ीस समय अनुसार बदलती रहती है इसलिए स्पष्ट जानकारी के लिए BBA Course Details in Hindi की ऑफिशियल वेबसाइट पर भ्रमण करें.

  • सरकारी सस्थान में = एक लाख से 2 लाख
  • प्राइवेट संस्थान में =  दो लाख से चार लाख

बीबीए कोर्स सब्जेक्ट | BBA Subjects Details in Hindi

बीबीए एक बिज़नेस मैनेजमेंट कोर्स है जिसे संस्थानों एवं इंस्टिट्यूट में अलग-अलग नाम से जाना एवं पहचाना जाता है. यह कम्युनिकेशन स्किल और लीडर शिप स्किल के साथ मैनेजमेंट अध्ययन की बेहतर रूपरेखा एवं समझ प्रदान करने में एक अहम रोल अदा करता है. 

BBA कोर्स सिलेबस

  • Finance
  • Principles of management
  • Accounting
  • Risk Management
  • Hospitality and Tourism
  • Marketing
  • Statistics
  • E-Banking and Finance 
  • Operational Research
  • Business Mathematics
  • Logistics & Supply Chain
  • Management and Insurance

सिलेबस इंस्टीट्यूट और कॉलेज के अनुसार अलग-अलग हो सकते है. बीबीए कोर्स सिलेबस की संपूर्ण जानकरी के लिए ऑफिसियल वेब पर अवश्य जाए. 

कोर्स से सम्बंधित निष्कर्ष

BBA Course Details In Hindi के माध्यम से सभी महत्वपूर्ण जानकरी यहाँ प्रदान किया गया है, जिसे समझकर उम्मीदवार BBA कोर्स करने के लिए तैयार हो सकते है. और अधिक जानकरी के लिए सरकारी वेबसाइट पर जाकर अपनी जिज्ञासा स्पष्ट करे. अगर दी गई जानकरी उचित लगी हो, तो कृपया शेयर करना न भूले! 


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *