M.Sc क्या है और ग्रेजुएट के बाद जरुरी क्यों है

M.Sc kya hai puri jankari
Spread the love

दुनिया शिक्षा के क्षेत्र में दिन-प्रतिदिन ऐतिहासिक कदम उठाते जा रही हैं परिणाम स्वरूप,  विभिन्न प्रकार के नए-नए खोज संपन्न हो पा रहे हैं जिसका श्रेय शिक्षा को जाता है. शिक्षा के क्षेत्र में संपूर्णता हासिल करने के लिए मास्टर डिग्री यानी पोस्ट ग्रेजुएशन की डिग्री होना आवश्यक है.

शिक्षा के प्रत्येक क्षेत्र में पोस्ट ग्रेजुएशन यानी मास्टर डिग्री हासिल किया जा सकता है जो विभिन्न योग्यताओं के अनुसार अलग-अलग होता हैं. 

M.Sc शिक्षा से संबंधित संपूर्णता हासिल करने एवं  बेहतर करियर विकल्प प्राप्त करने का अनोखा अवसर प्रदान करता है, जिसे एमएससी की डिग्री लेकर इसे संभव बनाया जा सकता है.  

 MSc थोड़ा कठिन अवश्य है लेकिन बेहतर शिक्षा और खुशनुमा भविष्य के लिए यह डिग्री सर्वोत्तम मानी जाती है.

MSc मुख्यतः  साइंस विषय के विभिन्न क्षेत्र में किसी विशेष सब्जेक्ट पर विशेष शिक्षा प्राप्त करने का एक मौका प्रदान करता है जिसे उम्मीदवार कुछ प्रतियोगिता परीक्षा पास करके इस अवसर का लाभ बड़ी सरलता से ले सकते हैं.

आवश्यक है कुछ महत्वपूर्ण जानकारी की,  जो एमएससी  की शुरुआती जर्नी में होती है.  तो आज की इस लेख में एमएससी से संबंधित प्रत्येक जानकारी विस्तार से समझेंगे.  जैसे,  MSc वास्तव में क्या है,  एमएससी करने के फायदे क्या है,   एम एस सी के लिए योग्यता,  एमएससी के बाद करियर,  एमएससी की फीस, आदि.

M.Sc क्या है (MSc Details in Hindi)

MSc एक प्रोफेशनल पोस्ट ग्रैजुएट डिग्री कोर्स है जो मुख्यतः 2 वर्ष का होता है लेकिन किसी किसी कंडीशन में इसका अवधि बढ़ भी सकता है जो यूनिवर्सिटी के ऊपर पूरी तरह निर्भर होता है. 

 यह डिग्री सभी विश्वाविद्यालयों में ऑफर किया जाता है जो विभिन्न विभिन्न क्षेत्र में समान अवधि एवं विभिन्न विषय पर आधारित होते हैं. 

कोई भी उम्मीदवार विज्ञान विषय में स्नातक होने के बाद, जैव चिकित्सा विज्ञान, भौतिक विज्ञान, खगोल विज्ञान, रसायन शास्त्र, दवा रसायन, पेट्रोलियम प्रौद्योगिकी, जीव विज्ञान स्ट्रीम के साथ पोषण, आहार, खाद्य विज्ञानगणित, भौतिकी आदि जैसे विकल्प चुन,  एमएससी डिग्री की शुरुआत कर सकते हैं. 

अवश्य पढ़े,

MBA से सम्बंधित सभी जानकारी, फ़ीस, करियर, कॉलेज

BCA कोर्स कैसे करे

B.Tech क्या है की जानकरी

पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री कोर्स संपूर्ण भारत में किसी विशेष विषय में संपूर्ण शिक्षा प्रदान करने के नाम से जाना जाता है,  शायद इसीलिए भारत के सभी यूनिवर्सिटी में मास्टर डिग्री की शिक्षा प्रदान की जाती है,  जो वास्तव में,  इस डिग्री को प्राप्त करने वाले उम्मीदवार कैरियर के नई ऊंचाई पर होते हैं. 

यह कोर्स इंटीग्रेटेड फॉर्म में भी उपलब्ध होता है जिसका अधिकतम अवधि 5 वर्ष तक होता है. जैसे:- Integrated M.Sc. programme, Biology, Chemistry, Mathematics or Physics आदि. जिस की पेशकश NISER  द्वारा की जाती है.

M.Sc का  फुल फॉर्म (MSc Full Form in Hindi)

 MSc की लोकप्रियता इसकी  संक्षिप्त नाम यानी मास्टर डिग्री से ज्यादा है,  लेकिन वास्तविकता इसकी संक्षिप्त नाम एवं संपूर्ण नाम दोनों से झलकता है कि M.Sc एक विशेष डिग्री है. वैसे एम एस सी का अंग्रेजी में फुल फॉर्म Master of Science (“मास्टर ऑफ साइंस”) होता है जबकि हिंदी में “विज्ञान में प्रवीण”  एवं संक्षिप्त में “M.Sc” होता है.

  • M.Sc का अंग्रेजी में फुल फ्रॉम = Master of Science
  • M.Sc का हिंदीमें फुल फ्रॉम = विज्ञान में प्रवीण एवं संक्षिप्त में “M.Sc

M.Sc के लिए योग्यता (Qualification For M.Sc in Hindi)

एमएससी उम्मीदवारों को किसी प्रतिष्ठित संस्थान से साइंस विषय में ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त करना अनिवार्य होता है.  हालाकी, ग्रेजुएशन की डिग्री एमएससी के लिए एक न्यूनतम योग्यता होता है,  सबसे महत्वपूर्ण, M.Sc क्वालीफाई होने के लिए यूनिवर्सिटी द्वारा आयोजित की गई प्रतियोगिता परीक्षा पास करने के बाद उम्मीदवार योग्य होते हैं. 

किसी किसी कंडीशन में, Biology, Chemistry, Technology, Mathematics or Physics  जैसे विषयों के साथ शैक्षणिक योग्यता भिन्न हो सकते हैं जो यूनिवर्सिटी के अनुसार तैयार किया जाता है.  नीचे दिए गए योग्यता से संबंधित जानकारी एमएससी डिग्री के लिए पर्याप्त होते हैं. 

इसे भी पढ़े,

B.Ed कोर्स की जानकारी

PhD कोर्स के सम्पूर्ण जानकरी

Note:- 
M.Sc
डिग्री उम्मीदवार उन्हीं विषय से कर सकते हैं जिस विषय से आप अपना ग्रेजुएशन पूरा किए हैं.

  • 12वी से M.Sc संभव नही है
  • ग्रेजुएशन डिग्री अनिवार्य
  • ग्रेजुएशन में 60% कम से कम मार्क्स आवश्यक
  • साइंस विषय से किसी भी स्ट्रीम में ग्रेजुएशन डिग्री अनिवार्य
  • अंग्रेज़ी स्किल्स
  • कम्युनिकेशन स्किल्स
  • एससी और एसटी उम्मीदवारों के लिए विशेष छुट

M.Sc का प्रमुख एंट्रेंस एग्जाम 

लगभग सभी यूनिवर्सिटी और संस्थान एमएससी कोर्स के लिए प्रमुख प्रतियोगिता परीक्षा का आयोजन करते हैं.  प्रतियोगिता परीक्षा पास करने वाले उम्मीदवार को एमएससी  डिग्री में एडमिशन लेने का अवसर प्रदान करते हैं.

 नीचे कुछ प्रमुख एंट्रेंस एग्जाम का नाम प्रदर्शित किया जा रहा है जो खासकर एमएससी डिग्री के लिए डिजाइन किया गया होता है  जिसे पास करना उम्मीदवारों को आवश्यक होता है.

  • IIT JAM
  • JNTU
  • BHU Entrance Exam
  • JNU M.Sc. Entrance
  • DUET
  • IPU CET
  • AIIMA PG

M.Sc डिग्री की विशेष सब्जेक्ट्स

पोस्ट ग्रैजुएट डिग्री कोर्स यानी एसएससी,  भारत  में विशेष विषय में यह डिग्री उपलब्ध कराता है,  भारत के लगभग सभी  यूनिवर्सिटी एवं संस्थानों  मैं निम्न  विषयों में एमएससी की डिग्री प्राप्त करने के अवसर प्रदान करता है जो इस प्रकार है.

  • Physics
  • Environmental Science
  • Zoology
  • Botany
  • Biological Sciences
  • Chemistry
  • Mathematics
  • Economics
  • Organisational Leadership
  • Biotechnology
  • Atmospheric Science
  • Electronics
  • Information Technology
  • Clinical Psychology

पोस्ट ग्रेजुएशन यानि MSc करने के फायदे

एमएससी डिग्री कोर्स पूरा करने के बाद एक विशेष प्रकार का अधिकार मिल जाता है जो किसी विशेष डिग्री की तैयारी करने के लिए अवसर प्रदान करता है साथ ही साथ मनपसंद इंडस्ट्री में करियर का भी अवसर प्रदान करता है.

नीचे कुछ विशेष इंडस्ट्री,  फील्ड,  हायर एजुकेशन, और करियर की जानकारी मुहैया कराया जा रहा है जो सिर्फ MSc डिग्री पूरा करने वाले उम्मीदवार ही इसका लाभ उठा सकते है. जैसे, 

  • Msc डिग्री कोर्स किसी विशेष विषय में अच्छे जानकर एवं एक्सपर्ट बनता है.
  • Msc करने के बाद एक पोस्ट ग्रेजुएट उम्मीदवार कहलाने का अवसर प्रदान करता है. 
  • बड़े कंपनी एवं संस्थान में मास्टर पद पर job करने का अवसर
  • Msc कोर्स करने के बाद किसी बड़े रिसर्च कंपनी में रिसर्च करने का मौका’
  • Msc करने के बाद आप NET या SET एग्जाम क्लियर कर एक प्रोफेशनल टीचर बनाने का अवसर.
  • Msc करने बाद आप UPSC CBI CID जैसे job के लिए अप्लाई करने का मौका.
  • रिसर्च इंस्टिट्यूट में आवेदन और DRDO, भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर जैसे संस्थान में करियर बनाने का सुनहरा अवसर

पोस्ट ग्रैजुएट (MSc)  की फीस (Total Fees Of MSc in Hindi)

पोस्ट ग्रेजुएशन,  भारत में मास्टर डिग्री के नाम से लोकप्रिय है जिसका मतलब किसी विशेष क्षेत्र में मास्टर की उपाधि धारण करना होता है.  यह कोर्स  भारत के सभी इंस्टीट्यूट,  यूनिवर्सिटी  एवं सरकारी संस्थान द्वारा मुहैया कराया जाता है.

 इस कोर्स की न्यूनतम फीस प्राइवेट संस्थान में, एक लाख से 5 लाख के बीच  तथा सरकारी संस्थान में 25000 से 70000 के बीज होता है.  जबकि किसी किसी संस्थान में स्कॉलरशिप की भी फैसिलिटी मौजूद होता है. 

एमएससी के बाद करियर विकल्प

इस डिग्री को सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद भारत में उच्च स्तर पर करियर की संभावनाएं आसानी से खोज सकते हैं.  हालांकि इसके बाद उच्च शिक्षा एवं साइंटिफिक लेवल पर करियर की संभावनाएं सबसे अधिक है. 

जॉब के दृष्टीकोण से एमएससी सर्वाधिक महत्वपूर्ण डिग्री कोर्स है जो ग्रेजुएशन के बाद बेहतर भविष्य स्थापित करने का मौका देता है. 

एमएससी के बाद ऑफिसर, ट्रेजरी मैनेजमेंट स्पेशलिस्ट, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया में बतौर स्टैटिस्टिकल रिसर्च ऑफिसर, फाइनेंशियल एडवाइजर, मेडिकल लेबोरेटरीज, सरकारी हॉस्पिटल, एग्रीकल्चर रिसर्च आर्गेनाईजेशन, वाइल्डलाइफ एंड फिशिंग डिपार्टमेंट, बायोमेडिकल केमिस्ट, लेबोरेटरी असिस्टेंट, रिसर्च एंड डेवलपमेंट मैनेजर, लैब केमिस्ट, इंडस्ट्रियल रिसर्च साइंटिस्ट, फूड एंड ड्रग इंस्पेक्टर आदि में करियर बना सकते है. 

प्रसिद्ध जॉब प्रोफाइल्स

  • Research Assistant
  • Lab Technician
  • Scientist
  • Field Officer
  • Junior Software Engineer
  • Clinical Research Specialist
  • Doctor
  • Geneticist
  • Lecturer
  • Laboratory Technician
  • Marine Geologists
  • Manager
  • Professor
  • Researcher and accountant
  • Statistician
  • Quantitative Developer
  • Assistant Professor

निष्कर्ष 

MSc से सम्बंधित सभी जानकरी इस पोस्ट में रिसर्च के माध्यम से मुहैया कराया गया है, जो इसके सम्बन्ध में सटीक जानकारी है. किसी भी सन्देश की स्थिति में ऑफिसियल वेबसाइट विजिट करना न भूले क्योकि इसमें कुछ जानकारी समय के अनुशार बदलता रहता है. उम्मीद है आपको यह पसंद आया होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *