इंग्लिश ग्रामर का प्रकार, परिभाषा एवं तथ्य | English Grammar in Hindi

English Grammar in Hindi

इंग्लिश ग्रामर मुख्य रूप से अंग्रेजी भाषा लिखनें, पढ़ने और बोलने का सरल जरिया प्रदान करता है जो हमें शुद्ध-शुद्ध लिखना, पढ़ना और बोलना सिखाता है. ग्रामर नियमों का एक ऐसा संग्रह है, जो अंग्रेजी भाषा को श्रोता तक अर्थपूर्ण भाव को प्रकट करने में मदद करता है. English Grammar in Hindi का उदेश्य, अंग्रेजी से सम्बंधित सभी नियमों से आपको परिचित करना है ताकि भविष्य में इससे कोई संदेह शेष न रहे.

एक वाक्य, ग्रामर की दृष्टि से शुद्ध तभी होता है जब वाक्य के प्रत्येक भाग एक नियमबद्ध तरीके से व्यवस्थित हो. और वाक्य को नियमबद्ध तरीके से व्यवस्थित करना तभी संभव है जब ग्रामर की जानकरी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो.

इसलिए, ग्रामर से सम्बंधित सभी महत्वपूर्ण महलुओं को यहाँ उपलब्ध किया गया है जो आपके अंग्रेजी सिखने की लगन को और बेहतर बना सके.

इंग्लिश ग्रामर की परिभाषा | Definition of English Grammar in Hindi

अंग्रेजी व्याकरण वह विज्ञान है जो हमें किसी भाषा को शुद्ध-शुद्ध पढ़ना, लिखना और बोलना सिखाता है. नियमों के अनुशार, ग्रामर को विभिन्न भागों यानि शब्दों, वाक्यांशों, खंडों, वाक्यों और वर्णों में विभक्त कर अध्ययन किया जाता है, वह इंग्लिश ग्रामर कहलाता है.

Grammar is a science which teaches us how to read, write and speak a language correctly.

दुसरें शब्दों में, व्याकरण वह तरीका है जिसके द्वारा किसी भाषा को शुद्ध-शुद्ध पढ़ना, लिखना और बोलना सिखा जाता है. वह ग्रामर कहलाता है. किसी भी भाषा को लिखने, पढ़ने और बोलने के निश्चित नियम होते हैं, जो शुद्धता व सुंदरता को बनाए रखने में मदद करता है.

अवश्य पढ़े,

Tense का Rules और परिभाषाअंग्रेजी शब्द का उच्चारण नियम
Relative Pronoun का प्रयोगModal Verb का प्रयोग और प्रकार
Present Tense के नियमPast Tense का नियम
Future Tense का नियमCan का प्रयोग

ग्रामर कितने प्रकार के होते है | Types of English Grammar in Hindi

शब्दों, वाक्यांशों, खंडों, वाक्यों और वर्णों के आधार पर ग्रामर को प्रमुख 5 वर्गों में विभाजित किया गया है. जो इसे अलग-अलग भाग में वर्णित करता है. अंग्रेजी के जानकर, इसे सबसे महत्वपूर्ण भेद मानते है क्योंकि ये इंग्लिश ग्रामर के सबसे आवश्यक भाग है. जो इस प्रकार है.

  1. Orthography ( वर्ण विचार)
  2. Etymology (शब्द विचार)
  3. Syntax (वाक्य विचार)
  4. Punctuation (चिन्ह विचार)
  5. prosody (छंद विचार)

Orthography ( वर्ण विचार)

यह ग्रामर का वह भाग है जिसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार के अंग्रेजी वर्णों का अध्ययन किया जाता है. इस भेद में स्वर और व्यजन वर्ग का विशेष कर अध्ययन किया जाता है जो Letters का रूप, लिखने का तरीका आदि को व्यक्त करता है. अर्थात,

It is a branch of grammar which teaches us about different types of letters. Example:-

Vowel; a, e, i, o, और u तथा हिंदी स्वर; अ, आ, इ, ….अ: आदि.

Consonant: B, C, D, F, …… Z तथा हिंदी व्यंजन; क, ख, ग, घ, …. ज्ञ आदि.

Etymology (शब्द विचार)

शब्द विचार ग्रामर का वह भाग है जिसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार के शब्दों का अध्ययन किया जाता है. इसके माध्यम से शब्दों को कई भागों में विभक्त किया जा सकता है. जो इसके अलग-अलग रूपों को विस्तृत करता है. अर्थात, शब्द विचार के विस्तृत रूप को Parts of Speech कहा जाता है.

इंग्लिश ग्रामर में शब्द विचार के विस्तृत रूप यानि पार्ट्स ऑफ़ स्पीच को प्रमुख 8 वर्गों में विभाजित किया जाता है. जो बनावट एवं प्रयोग के अनुसार व्यवस्थित होते है.

  1. Noun ( संज्ञा )
  2. Pronoun ( सर्वनाम )
  3. Verb ( क्रिया )
  4. Adjective ( विशेषण )
  5. Adverb (  क्रियाविशेषण )
  6. Preposition ( संबंध सूचक )
  7. Conjunction ( संयोजक )
  8. Interjection ( विस्मयादिबोधक )

Note;
यहाँ प्रत्येक भाग का अध्ययन विस्तृत रूप से कर सकते है.

Syntax (वाक्य विचार)

वाक्य विचार इंग्लिश ग्रामर का वह रूप है जिसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार के वाक्यों यानि Sentences का अध्ययन किया जाता है. इस भेद के अनुसार प्रत्येक वाक्य को चार प्रमुख रूपों में व्यक्त किया जाता है, जो पूर्ण वाक्य विचार के भाग होते है. जैसे,

  1. Affirmative Sentence
  2. Negative Sentence
  3. Interrogative Sentence
  4. Negative Interrogative Sentence

अवश्य पढ़े, Interrogative Sentence का प्रयोग

आधुनिक ग्रामर के अध्ययन में वाक्य विचार को Subject Verb Agreement के नाम से भी जाना जाता है. जो किसी वाक्य के Subject के Number और Person के अनुसार Verb का प्रयोग सिखाता है. अर्थात,

  • यदि Subject, Singular हो, तो Verb भी Singular प्रयोग होगा.
  • Subject यदि Plural हो, तो Verb Plural प्रयोग होगा.

Punctuation (चिन्ह विचार)

चिन्ह विचार अंग्रेजी व्याकरण का वह महत्वपूर्ण भाग है, जिसके अंतर्गत विराम चिन्हों का अध्ययन अंग्रेजी वाक्यों को पूर्ण या अर्थवान बनाने के किया जाता है, वह चिन्ह विचार कहलाता है.

It is a branch of grammar which makes us learn about different types of sings and symbols.

अर्थात, वाक्यों को सरल, सटीक एवं भावपूर्ण बनाने के लिए चिन्ह विचार का प्रयोग होता है. निचे कुछ चिन्ह विचार के उदाहरण दिया है जिसे देख आपका संदेह क्लियर हो जाएगा.

  • Full Stop ( पूर्ण विराम ) – (.)
  • Interrogation (प्रश्नवाचक चिह्न) – (?)
  • Comma (अल्प विराम) – (,)
  • Colon (अपूर्ण विराम) – (:)
  • Semi Colon (अर्द्ध विराम) – (;)
  • Exclamation Mark (विस्मयादिबोधक चिह्न) – (!)
  • Colon Dash (विवरण चिह्न) – (:-)
  • Brackets (कोष्ठक) – () [] {}

prosody (छंद विचार)

छंद विचार इंग्लिश ग्रामर का वह महत्वपूर्ण भेद है जिसके अंतर्गत अंग्रेजी भाषा में अंकित रस, अलंकार, दोहा, चौपाई, छन्‍द इत्‍यादि का अध्ययन करते है.

ग्रामर में इसका अध्ययन सबसे महत्वपूर्ण है क्योंकि इसकी लिकावत स्पेशल केटेगरी में होती है. जिसे समझना थोड़ा कठिन अवश्य होता है, लेकिन अध्ययन के पश्चात् ये बिल्कुल सरल और अर्थवान हो जाता है.

दुसरें शब्दों में,

It is a branch of grammar which makes us learn about different types of poetry. It is also called the science of poetry. Ex;

Rhyme (राइम) = तुकबंदी, Ode = शोक गीत, Ballad = प्रेमगीत, Dirge / Elegy = शोकगीत, आदि.

महत्वपूर्ण तथ्य

इंग्लिश ग्रामर की परिभाषा एवं प्रकार दोनों सरल शब्दों में भाषा का अर्थ प्रकट करते है कि कैसे इसे सरलता से सीखे. वैसे, अंग्रेजी लिखना, बोलना और पढ़ना English Grammar in Hindi के माध्यम से बिल्कुल सरल और सटीक बनाया जा सकता है. बशर्ते, व्याकरण की जानकारी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो. इसलिए, यहाँ ग्रामर से सम्बंधित सभी आवश्यक बातें दर्शाया गया है ताकि इस भाषा को सरल बनाया जा सके.

  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *