अंग्रेजी में Sentences का महत्व एवं जानकारी | English Sentences in Hindi

Sentences in Hindi

किसी शब्द समूह को के अर्थों को गहराई से समझाने एवं लिखने के लिए एक विशेष प्रकार की प्रक्रिया का पालन किया जाता है जिसे sentence in Hindi यानि हिंदी में वाक्य कहा जाता है. दुनियाँ में जितनी भी भाषा बोली या लिखी जाती है वो एक सेंटेंस के माध्यम से तैयार की जाती है ताकि उसकी अभिव्यक्ति श्रोता तक अर्थपूर्ण पहुँचाया जा सके.

Sentences in Hindi के माध्यम से वाक्य का परिभाषा, प्रकार एवं उदाहरण का जिक्र यहाँ विस्तार किया जाएगा ताकि आप सभी इसके विशेषता एवं अनुपम ज्ञान सरलता से प्राप्त करे.

Sentences क्या है या वाक्य क्या होते है | Sentences in Hindi

मनुष्य अपने  विचारों (Ideas/Thoughts/Imaginations/ Opinions/Feelings) की अस्पष्ट अभिव्यक्ति बोलकर या लिखकर ज्यादातर शब्द समूह के माध्यम से ही करता है. ऐसे Group of Words  एक निश्चित क्रम मे Arrange  दिए गए होते हैं और इनसे  पूर्ण और सार्थक अर्थ की अभिव्यक्ति होती है, जिसे सेंटेंस (Sentence) कहा जाता है. 

दुसरे शब्दों में, शब्दों का ऐसा  समूह जिससे पूर्ण और सार्थक अर्थ की अभिव्यक्ति हो,  वह Sentence (सेंटेंस) कहलाता है.

A Sentence is an arrangement of a group of words that makes a complete and meaningful sense.

For Example:-

  • Please door the shut.
  • Moves the earth the sun round.

दिए गए Group of Words Sentence  नहीं कहे जा सकते;  क्योंकि ये Definite Order  मे Arrange  नहीं किए गए हैं और ना इनसे कोई अर्थ निकलता है.

अवश्य पढ़े, बिना रुके अंग्रेजी कैसे बोले

Another Example:-

  • Please shut the door.
  • The earth moves round the sun.

दिए गए सेंटेंस से पूर्ण एवं सार्थक अर्थ निकल रहे हैं और यह Definite Order  मे Arrange  भी किया गया है.  इसलिए  यह Meaningful Sentence  है. 

Kinds of Sentences in Hindi | वाक्य के प्रकार

Sentence को इसके बनावट एवं पहचान के आधार पर वाक्य को अलग-अलग भागों में अध्ययन किया जाता है जो इसके विशेषता को समझने में एक आधारभूत शृंखला तैयार करता है जो बेहद सरल होता है.

Sentence को मुख्यतः 5 भागों में बांटा गया है जो इस प्रकार है.

1. Assertive/Statement/ Declarative Sentence (कथानात्मक वाक्य/सामान्यवाक्य)

2. Interrogative Sentence (प्रश्नवाचक वाक्य)

3. Imperative Sentence (आदेश सूचक वाक्य)

4. Optative Sentence (विस्मय सूचक वाक्य)

5.  Exclamatory Sentence (विस्मयादिबोधक वाक्य)

1. Assertive/Statement/ Declarative Sentence (कथानात्मक वाक्य/सामान्यवाक्य)

जब किसी तथ्य को दावे के साथ या दृढ़ता पूर्वक स्वीकार करने की आवश्यकता होती है या किसी घटना या वस्तु को वर्णन करने की आवश्यकता होती है,  वाक्य चाहे स्वीकारत्मक हो या नकारात्मक,  वहां Assertive Sentence  का प्रयोग किया जाता है. Kinds of Sentences in Hindi के सहायता से इस पर विस्तार से चर्चा करते है.

दूसरे शब्दों में,  जिस वाक्य में कुछ कहा या बताया जाए,  वह  वाक्य Assertive Sentence  कहलाता है. 

Note:-
Assertive Sentence व्यक्त करने के स्ट्रक्चर (Structure)  जो पूरी तरह किसी कथन या  दावे को व्यक्त करता है.

  1. S+V+ O/C
  2. S+V1+ V3+O/C
  3. S+is/are/am+V4+O/C
  4. S+have/has+V3+O/C
  5. S=+have/has+been+V3+O/C
  6. S+V2+O/C
  7. S+Modal+V1
  8. S+Modal+be+V4
  9. S+Modal+have+V3
  10. S+Modal+have+have been+V4

जहाँ (S= Subject, V= Verb, O= Object, C= Complement)

Assertive Sentence दो प्रकार के होते हैं.

  • Affirmative Sentence
  • Negative Sentence

Affirmative or Yes-Statement (सकारात्मक वाक्य)

For Example:-

  • Abhishek has done his MBBS from Kolkata.
  • Guddu went to Delhi yesterday.
  • She may win the prize.
  • I am sure you too will begin to speak English.
  • He could have passed the examination if he had laboured hard.

Negative or No-Statement

Negative Sentence मुख्यतः first auxiliary verb के बाद Not रखने से बनता है.

For Example:- 

Abha has not been reading the newspaper. 

Komal is not living in Patna these days.

लेकिन कुछ Negative Words  ऐसे हैं जिनके प्रयोग से वाक्य अपने आप Negative  बन जाते हैं और Not  का प्रयोग नहीं करना पड़ता है.  जैसे:-

They never come in time. (  वे कभी भी समय पर नहीं आते हैं.)

I hardly go there. ( मैं वहां बिल्कुल नहीं जाता हूं.)

Barking dogs seldom bite. ( भौंकने वाले कुत्ते काटते नहीं.)

Note:- 
Assertive Sentence के अंत में Full Stop ( . )  का प्रयोग होता है. 

2. Interrogative Sentence (प्रश्नवाचक वाक्य)

वह वाक्य जिससे प्रश्न पूछा जाए, वह Interrogative Sentence  कहलाता है.

Interrogative Sentence  दो प्रकार के होते हैं.

  • Yes-No Question
  • WH-Question

Yes-No Question:- 

वह प्रश्न जिसका उत्तर हां या ना (Yes-No)  मे हो,  वह Yes-No Question  कहलाता है. जैसे:-

  • Do you read any newspaper?
  • Is that your pen?
  • Will he pass the examination?
  • Should there be peace everywhere?

WH-Question:-

वह प्रश्न जिसका उत्तर Yes-No मे नहीं दिया जा सके, वह WH-Question  कहलाता है. 

Question Words 9 होते हैं.

  1. Who = कौन,  किसको
  2. Whom =  किसको
  3. Whose =  किसका
  4. What =  क्या,  कौन सा
  5. Which =  कौन सा
  6. Where =  कहां
  7. Why =  क्यों
  8. How =  कैसे
  9. When = कब

9 Question Words के अलावा भी कुछ Formative Question Words  है जो इस प्रकार है.

  1. How many =  कितना (for number)
  2. How often =  कितनी बार
  3. At what time =  किस समय
  4. How far = कहां तक/ कितनी दूर
  5. At what place =  किस जगह
  6. How long =  कब तक/  अवधी
  7. How Much = कितना (for quantity)
  8. What kind of/what type/ what short of = किस जगह (for the exact place)
  9. How many times =  कितनी बार

For Example:- 

  • Who discovered the law of motion?
  • Which hand do you use?
  • What paper do you read?
  • Where is the capital of India?
  • When was Dr. Rajendra Prasad born?
  • Why is the government job your first choice?
  • How do you start the car?
  • How long have you been living in Patna?

3. Imperative Sentence (आदेश सूचक वाक्य)

जब कोई आदेश, आग्रह और सलाह निषेध का भाव व्यक्त करने की आवश्यकता होती है तो Imperative Sentence  का प्रयोग किया जाता है.

 आसान शब्दों में,  जिस वाक्य से आदेश, अनुरोध, सलाह,  निषेध इत्यादि का बोध हो, तो उसे Imperative Sentence  कहा जाता है. जैसे:-

  • Fetch me a glass of water.
  • Come on / in time.
  • Please, lend me fifty rupees.
  • Never tell a lie.

Note:-
Imperative Sentence मे Subject “You” understood  रहता है. यानी Subject ‘You’  अव्यक्त लेकिन उसका भाव निहित रहता है.  जैसे:-

  • Come in time = You come in time.
  • Help the poor = You help the poor. 

कभी-कभी Imperative Sentence  एक ही शब्द का होता है. जैसे:-

Run ! Hurray ! Catch !  Come !  Go !  इत्यादि.

Note:- 
Strong Command/ Order  अभिव्यक्ति वाले Imperative Sentences  अंत में Note of Exclamation ( ! )  का प्रयोग किया जाता है.

4. Optative Sentence (विस्मय सूचक वाक्य)

जब किसी व्यक्ति के प्रति शुभकामना, प्रार्थना/ दुआ,  या अभिशाप/ बद्दुआ आदि व्यक्त करने की आवश्यकता होती है तो Optative Sentence  का प्रयोग किया जाता है.

 दूसरे शब्द में, वह वाक्य जिससे आंतरिक इच्छा ( आशीर्वाद, अभिशाप,  दुख आदि)  का भाव प्रकट हो, तो उसे Optative Sentence  कहा जाता है. जैसे:-

  • Wish you a happy new year !
  • May you be successful !
  • Many happy returns of the day !
  • Would that he were alive ! (काश !  वह जिंदा होता !)
  • May that building collapse ! ( वह  भवन ढह जाए !)

Note:- 

Optative Sentence के अंत में Note of Exclamation ( ! ) का प्रयोग किया जाता है. “May” का प्रयोग Optative  तथा Interrogative  दोनों प्रकार के वाक्य में किया जाता है. Interrogative Sentences मे आज्ञा का भाव व्यक्त करने के लिए  तथा Optative Sentence  मे इच्छा, प्रार्थना अधिक आभार व्यक्त करने के लिए किया जाता है. 

5.  Exclamatory Sentence (विस्मयादिबोधक वाक्य)

जब आश्चर्य,  दुख,  हर्ष, क्रोध, पश्चाताप, घृणा, दुश्मनी, इत्यादि का भाव व्यक्त करने की आवश्यकता होती है तो Exclamatory Sentence  का प्रयोग किया जाता है.

 या

 वह वाक्य जिससे आश्चर्य, प्रसन्नता, शोक, घृणा इत्यादि का बोध हो, तो  वह Exclamatory Sentence कहलाता है.

सामान्यतः Exclamatory Sentences “What” या “How”से शुरू किए जाते हैं लेकिन ऐसा हमेशा आवश्यक नहीं है.  मुख्य बात  कि Sentences मे Tone of exclamation  का Expression होता है जिसे निचे Sentences in Hindi के द्वारा सम्पूर्ण किया जा रहा है.

How + Adjective 

What + Adjective  + Noun

  • What a boy !
  • How beautiful !
  • What a dashing personality !
  • Alas ! I am undone.
  • Hurrah ! We have won the match.
  • Pooh ! Pooh ! (राम रे राम)
  • What a tragic end !

Note:-

Note of Exclamation का प्रयोग Exclamatory Word के अंत में या वाक्य के अंत में किया जाता है.

महत्वपूर्ण निष्कर्ष

Sentences in Hindi में वाक्य के प्रकार पर विशेष बल दिया गया है जिससे प्रत्येक श्रोता यानि इंग्लिश सेंटेस पढ़ने में रूचि रखने वालों को सम्पूर्ण जनकारी प्राप्त करने में असानी हो. क्योंकि सेंटेंसेस अंग्रेजी भाषा के मुख्य अधार होते है जिसे समझना अत्यंत आवश्यक होता है. इस पोस्ट में कोई जानकारी प्रदान करने में कोई चुक हुई हो, तो हमें कमेंट के माध्यम से अवगत कराए. धन्यवाद

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *